|

Sara Ali Khan ने खोले Saif Ali Khan और Amruta Singh के Divorce के सारे राज़! बोली 9 साल की उम्र में जो देखा…

Sara Ali Khan: इस बॉलीवुड इंडस्ट्री में बहोत सारे रिश्ते बनते है, तो बहोत सारे टूटते है। वही सैफ अली खान और अमृता सिंह के बारे में तो सभी जानते है। दोनों ही बड़े नामी अभिनेता और अभिनेत्री है। वह दोनों भी एक समय पर प्यार में थे और अपने रिश्ते को लेकर सुर्खियों में बने रहते थे। सैफ अली खान और अमृता सिंह ने 1991 में शादी की थी और फिर उन्हें दो बच्चे भी हुए थे। जिनका नाम Sara Ali Khan और Ibrahim Ali Khan है। पर इसके बाद सैफ और अमृता के आपसी तालमेल अच्छा नहीं होने से दोनों ने 2004 में divorce ले लिया और अलग हो गए थे।

Sara Ali Khan ने खोले Saif Ali Khan और Amruta Singh के Divorce के सारे राज़! बोली 9 साल की उम्र में जो देखा…
Sara Ali Khan ने खोले Saif Ali Khan और Amruta Singh के Divorce के सारे राज़! बोली 9 साल की उम्र में जो देखा…

Sara Ali Khan ने एक इंटरव्यू में खुल के शेयर की यह बात

सभी यह जानते है की सैफ अली खान और अमृता सिंह का इस फिल्म इंडस्ट्री में कितना बड़ा नाम है। दोनों ने 2004 में divorce ले लिया था और उसके बाद अब उनके बच्चे भी बड़े हो गए है और बेटी सारा अली खान तो नामी अभिनेत्री भी बन चुकी है और फिल्मे भी कर रही है। वही एक इंटरव्यू के दौरान Sara Ali Khan ने अपने माता पिता सैफ और अमृता के अलग होने की बात की थी। चलिए बताते है, क्या कहा सारा अली खान ने।

Untitled design 50 1
Sara Ali Khan ने एक इंटरव्यू में खुल के शेयर की यह बात


जब बच्चे अपने माता पिता को झगड़ते हुए या तो अलग होते हुए देखते हे, तो छोटी सी उम्र में उन पर उस चीज़ का बुरा असर पड़ता है। लेकिन वही सारा अली खान ने बताया की वह दुसरो की तुलना में 9 साल की उम्र में ज़्यादा समझदार बन गई थी। उन्होंने बताया की वो समज गई थी की उसके मम्मी पापा एकदूसरे के साथ खुश नहीं है। उन्होंने बताया की 10 साल बाद उन्होंने अपनी माँ को खुश देखा। चलिए बताते हे, क्या कहा सारा ने।


सारा अली खान ने सैफ अली खान और अमृता सिंह को नाखुश देखकर अपने बारे में खुलासा किया कि क्या उनके माता-पिता को अलग-अलग देखना मुश्किल था? उन्होंने कहा, “मेरे पास हमेशा परिपक्व होने क्षमता रही है मेरी उम्र की तुलना में थोड़ा तेज़ सोच पाती थी। और 9 साल की उम्र में भी मुझे लगता है कि मेरे पास यह देखने की परिपक्वता थी कि हमारे घर में एक साथ रहने वाले ये दोनों लोग खुश नहीं थे। और अचानक, वे दो नए घरों में रहकर ज्यादा खुश हो गए। जैसे, मेरी माँ, जो मुझे नहीं लगता कि 10 सालो में इतना हसी हो, अचानक खुश हो गई थी, जैसे वह होनी चाहिए। अगर दो खुशहाल घरों में मेरे दो खुश माता-पिता हैं, तो मैं दुखी क्यों होऊंगी? तो नहीं, मुझे नहीं लगता कि यह बिल्कुल भी मुश्किल था।”

Share

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.