हनुमान जी का जन्म कैसे हुआ – Hanumanji ka Janam

Share करें
हनुमान जी का जन्म कैसे हुआ - Hanumanji ka Janam
हनुमान जी का जन्म कैसे हुआ – Hanumanji ka Janam

हनुमान जी का जन्म कैसे हुआ – Hanumanji ka Janam

भगवान शंकर कैलास के एक उत्कृष्ट शिखर पर भगवती सती के साथ बैठे थे। पेड़ की घनी छाँव में उनके कपूर जैसे श्वेत शरीर के ऊपर नील रंग की जटा बिखरे हुए थे। उसके हाथ में रुद्राक्ष की माला, गले में सांप और सामने नंदी था। उनके साथी और अनुयायी थोड़ी दूरी पर तरह-तरह के खेल खेल रहे थे। चंद्रमा और गंगा के अमृत कलश के कारण उनके सिर के ऊपर से, तीसरी आंख का विषम शांत था। माथे पर राख बेहद सुरुचिपूर्ण दिख रही थी।

अचानक उन्होंने “राम-राम” कहकर उनकी समाधि तोड़ दी। सती ने देखा कि भगवान शंकर उन्हें अभूतपूर्व भाव से देख रहे थे।

सती ने उनके सामने खड़े होकर हाथ जोड़े और तारीफ करते हुए कहने लगी – “स्वामी! इस समय मैं आपके लिए क्या कर सकती हूं? क्या आप मुझे कुछ बताना चाहते हैं यह आपके चेहरे से ऐसा दिखता है।

भगवान शंकर ने कहा – – प्रिय! मेरे मन में आज एक बहुत ही शुभ संकल्प चल रहा है। मैं उन लोगों के बारे में सोच रहा हूं जिनका मैं लगातार ध्यान कर रहा हूं, जिनके नाम मैं बार-बार जपता रहा हूं।

जो लोग वास्तविक हैं,रूप को याद करके, मैं समाधिस्थ हो जाता हूं, यही मेरे भगवान है, यही मेरा भगवान है, उनका अवतार संसार में आ रहा है, सभी देवता यहां अवतार लेने के लिए और उन्हें सेवा करने का अवसर प्राप्त होगा , फिर मुझे वंचित क्यों होना चाहिए ? मैं भी वहां जाऊं और उनकी सेवा करके युगों की लालसा पूरी करूं, जिससे मेरा जीवन सफल हो सके। ”

भगवान शंकर की यह बात सुनकर सती तुरंत नहीं सोच सकीं कि इस समय क्या सही है और क्या गलत। उसके दिमाग में दो तरह के भाव थे। एक तो यह कि मेरे पति की इच्छा पूरी होनी चाहिए और दूसरी यह कि मुझे उससे अलग नहीं होना चाहिए।

उसने कुछ सोचा और कहा – “प्रभु! आपका संकल्प बहुत सुंदर है। जैसे मैं अपने इष्टदेव यानी आप की सेवा करती हूं। उसी तरह, आप अपने स्वयं के देवता की सेवा करना चाहते हैं। लेकिन कौन जानता है कि शोक के डर से मेरे हृदय में क्या चल रहा है। कृपया मुझे अपने हृदय को अपनी खुशी में विश्वास करने की शक्ति दें। एक और बात है। भगवान का अवतार इस बार रावण को नष्ट करने के लिए हो रहा है। रावण आपका सबसे बड़ा भक्त है। उसने अपना सिर शीश भी काटकर आपके चरण में रख दिया था। ऐसी स्थिति में आप उनकी मदद कैसे कर सकते हैं? ”

भगवान शंकर हंसने लगे। उन्होंने कहा – ‘देवी! तुम बहुत भोली हो। वियोग का सवाल ही नहीं है। मैं एक रूप में अवतार लेकर प्रभु की सेवा करूंगा और दूसरे रूप में मैं तुम्हारे साथ रहूंगा और उनकी लीला दिखाऊंगा और मैं उस समय उनके पास जाऊंगा और उनकी स्तुति करूंगा।

अब यहाँ आपकी दूसरी बात है। लेकिन इसमें, जिस तरह रावण ने मेरी पूजा की है, उसने भी मेरे एक हिस्से की अनदेखी की है। आप जानते हैं कि मैं ग्यारह रूपों में रहता हूं।

जब रावण ने अपने दस सिर उठाकर मेरी पूजा की, तो उसने बिना पूजा किए मेरा एक हिस्सा छोड़ दिया। अब मैं उसी हिस्से के रूप में इसके खिलाफ लड़ सकता हूं और अपने भगवान की सेवा भी कर सकता हूं।

मैंने वायु देव की सहायता से अंजना के गर्भ से अवतार लेने का फैसला किया है। अभी तो आपके मन में कोई दुःख नहीं है ? ” भगवती सती प्रसन्न हुईं।

देवराज इंद्र के पास अमरावती में पुंजिकस्थला नामक एक अप्सरा थी। एक दिन उसने एक ऐसा अपराध किया जिससे वह वानर बन कर पृथ्वी पर जन्म लेना पड़ा।

कई प्रार्थनाओं के बाद शापित ऋषि, ने दया की और कहा कि वे जब चाहें किसी भी का रूप ले सकती है। जब चाहे वानर बन सकती है तो जब चाहे मानव स्त्री।  तब वानरराज केसरी ने अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया। वह बेहद सुंदर थी और केसरी भी उसे बहुत चाहते थे।

एक दिन, दोनों मनुष्य रूप धारण करके सुमेरु पर्वत पे विहार कर रहे थे।  एक कोमल हवा बह रही थी। अंजना की साड़ी हवा के एक कोमल झोंके से उड़ गई।

अंजना को लगा जैसे कोई उसे छू रहा है। वह अपने कपड़े पकड़ कर खड़ी हो गई और चेतावनी देते हुए बोला – “यह कौन दुष्ट व्यक्ति है जो मेरे पतिव्रता धर्म को नष्ट करना चाहता है?” मेरे इष्टदेव – पतिदेव मेरे साथ मौजूद हैं और फिर भी कोई मेरे पतिव्रत को नष्ट करना चाहता है? मैं उसे शाप दे दूंगी और उसे नष्ट कर दूंगी।

” तब उसे ऐसा लगा जैसे वायुदेव कह रहे हों – “देवी! मैंने आपका व्रत नहीं तोड़ा है। देवी! आपको एक ऐसा पुत्र होगा, जो ताकत में मेरे जैसा होगा; ताकत और बुद्धिमत्ता में कोई भी इसकी बराबरी नहीं कर सकता। मैं इसकी रक्षा करूँगा।

वह प्रभु का परम सेवक होगा। ” फिर अंजना और केसरी अपनी जगह पर चले गए। भगवान शंकर अंजना के कान से होते हुए आंशिक रूप से उनके गर्भ में प्रवेश कर गए। इस प्रकार चैत्र सूद पूनम मंगलवार के दिन अंजना के गर्भ से भगवन शंकर ने अवतार धारण किया।

हनुमान जी पूर्व जन्म में कौन थे?

हनुमानजी पूर्व जन्म में कोई नहीं थे ,वह स्वयं भगवन शिव के ग्यारवे रूद्र का अंश है। तो उनका कोई पूर्व जन्म नहीं है।

हनुमान का नाम हनुमान कैसे पड़ा?

जब इंद्र के वज्र के प्रहार से हनु यानि ठुठ्ठी टूट गई थी। इसीलिए इंद्र ने उनका नाम हनुमान रखा था।

अंजनी किसकी बेटी थी?

हनुमानजी की माता पुंजिकस्थली नामक एक अप्सरा थी। जिन्हे एक ऋषि के श्राप के कारन वानर रूप धारण कर पृथ्वी पे आना पड़ा था।