जानिए वेद पुराण उपनिषद और स्मृति

Share करें
वेद पुराण उपनिषद
वेद पुराण उपनिषद

हमारे प्राचीन ग्रंथ

वेद पुराण उपनिषद और स्मृति

1. वेद:

वेद हिन्दू धर्म की सबसे प्राचीन और पवित्र ग्रंथ माने जाते है। इसमें मंत्रो और अनुष्ठान का संग्रह मिलता है। हिंदू ऋषियों ने इस ज्ञान को इतना पवित्र माना कि लंबे समय तक उन्होंने इन्हें लिखित में नहीं दिया।

उन्होंने अपनी स्मृति में उन्हें संरक्षित किया और मौखिक शिक्षा के माध्यम से उन्हें योग्य शिष्य को सिखाया। जैसा कि उन्हें श्रवण के माध्यम से सीखा गया था न कि पढ़ने से, इस ज्ञान के सत्य को श्रुति के रूप में जाना जाने लगा, जिसका शाब्दिक अर्थ श्रवण है।

समय के दौरान इन श्रुतिओं को इकट्ठा करने और संकलित करने की आवश्यकता महसूस की गई। यह कार्य महान ऋषि कृष्ण द्वैपायन वेद व्यास ने किया था। वेदों के संकलन के अपने विशाल कार्य को मान्यता देते हुए इस संत का नाम दिया गया।

वेद व्यास और उनका जन्मदिन आज भी गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है।

वेदों को चार भागों में बांटा गया है:

  • ऋग्वेद: ज्यादातर देवताओं इंद्र, अग्नि और सोम जैसे देवताओ का आह्वाहन करने के लिए मंत्रो और स्त्रोत्र के बारे में वर्णन किया गया है। गायत्री मंत्र का उल्लेख इसी वेद में मिलता है। तथा विविध औषधियों का उल्लेख भी इसी ऋग्वेद में मिलता है।
  • यजुर्वेद: इसमें यग्नो और हवनो का विधान मिलता है। अश्वमेघ यग्न जैसे यग्नो का उल्लेख भी इसी ग्रंथ में मिलता है।
  • साम वेद: साम का अर्थ रूपांतरण कह सकते है। इसमें संगीत यानि गायन के माध्यम को महत्व दिया गया है। इसमें ज़्यादातर मंत्रो का उल्लेख ऋग्वेद से ही लिया गया है। इंद्र देव और अग्नि देव के बारे में वर्णन मिलता है।
  • अथर्व वेद: सांसारिक महत्वाकांक्षाओं के लिए जादू मंत्र, जैसे तंत्र मंत्र के साथ चमत्कार ,रहस्य्मय क्रिया का इस ग्रंथ में उल्लेख मिलता है। माना जाता है कि यह वेद उपरोक्त तीनों से काफी बाद में लिखा गया था।

उपरोक्त भाग में से प्रत्येक में दो खंड होते हैं – संहिता, जिसका अर्थ है भजन और ब्राह्मण, जो इन भजनों को बताता है, और निर्देश देता है कि उनका उपयोग कैसे और कब करना है। वेदों में चार अति महत्वपूर्ण वक्तव्य हैं। इन्हें महावैयाया या बड़े-बड़े वाक्य कहा जाता है।  इन चार में से तीन हर आत्मा की दिव्यता की बात करते हैं और चौथा परमात्मा के स्वरूप की बात करता है।

जानिए वेद क्या है? संपूर्ण जानकारी | 4 Vedas in Hindi

Dhanteras 2021: धनतेरस 2021 में कब है,जाने तिथि, पूजा, महत्त्व

Diwali 2021: दिवाली 2021 कब है, जाने तिथि, पूजा विधि, कथा

2. पुराण:

हिंदू धर्म के वेद शास्त्र को गहराई से समजना काफी कठिन है। वे ज्यादातर लोगों को समझने के दायरे से बाहर हैं। भारत के ऋषियों ने उन्हें रोचक और आसानी से समझ में आने वाले तरीके से प्रस्तुत करने के लिए पुराणों नामक एक विशेष प्रकार का साहित्य तैयार किया। पुराणों में लिखित ज्ञान को कहानियों और द्रश्टांतो के माध्यम से प्रस्तुत किया गया है। जिससे वाचक आसानी से समज सके।

पुराणों की संख्या 18 है:

  • मत्स्य पुराण
  • कुरम पुराण
  • वराह पुराण
  • गरुड़ पुराण
  • ब्रह्मा पुराण
  • विष्णु पुराण
  • पद्म पुराण
  • शिव पुराण
  • भागवत पुराण
  • स्कंद पुराण
  • लिंग पुराण
  • अग्नि पुराण
  • वायु पुराण
  • मार्कण्डेय पुराण
  • नारद पुराण
  • ब्रह्मवैवर्त पुराण
  • ब्रह्माण्ड पुराण
  • भविष्य पुराण

पुराणों में वर्णित भगवान विष्णु के दस अवतार मानव जाति को सिखाते हैं कि भगवान विभिन्न अवतारों में पृथ्वी पर प्रकट होकर समय-समय पर अन्याय और बुरी ताकतों का नाश करके धर्म को फिर से स्थापित किया है।

उपनिषदः

उपनिषदों को वेदांता भी कहा जाता है, और वे दार्शनिक, आध्यात्मिक और वैदिक दर्शन का सार हैं। आज उपलब्ध 108 उपनिषदों में से निम्नलिखित सबसे लोकप्रिय हैं:

(१) ईश उपनिषद,

(२) ऐतरेय उपनिषद

(३) कठ उपनिषद

(४) केन उपनिषद

(५) छान्दोग्य उपनिषद

(६) प्रश्न उपनिषद

(७) तैत्तिरीय उपनिषद

(८) बृहदारण्यक उपनिषद

(९) मांडूक्य उपनिषद

और

(१०) मुण्डक उपनिषद।

उन्होने निम्न तीन को प्रमाण कोटि में रखा है-
(१) श्वेताश्वतर

(२) कौषीतकि

तथा

(३) मैत्रायणी।

शंकराचार्य, रामानुजाचार्य, निम्बार्काचार्य। माधवाचार्य और वल्लभाचार्य ने हमेशा उपनिषदों को पवित्र ज्ञान ग्रंथ के रूप में माना है। और उनकी व्याख्या की है ताकि उन्हें अपने सिद्धांतों के अनुरूप बनाया जा सके।

स्मृतिः

दर्शनों और तंत्रों को छोड़कर सभी हिंदू धर्मग्रंथों को दो व्यापक श्रेणियों में रखा जा सकता है:

  • वेद
  • स्मृतियां

वैदिक शास्त्र ही प्राचीनतम सत्य हैं। वेदों को छोड़कर सभी शास्त्र स्मृति श्रेणी में आते हैं और पुराणों और महाकाव्यों को शामिल करते हैं।

स्मृति शब्द का तकनीकी अर्थ है – हिन्दुओं के लिए नियम-पुस्तिका या आचार संहिता का नियमावली। इन प्राचीन विधि-पुस्तकों में मनु की विधि-पुस्तक (मनु-स्मृति) का भी उल्लेख किया गया है।

निष्कर्ष

हमारे वेदों की भाषा सरल नहीं है। इसलिए पुराणों के द्वारा इसे अति सरल भाषा में किस्से कहानियो द्वारा इसे ढाला गया है। हमारे इन्ही प्राचीन ग्रंथो वेद पुराण उपनिषद का ज्ञान ही हमारे जीवन की सत्गति का मार्ग है। इन्हे हमे ज़रूर पढ़ना चाहिए। यहाँ तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद।

वेद पुराण उपनिषद कितने हैं?

वैसे तो वेदो की संख्या 6 है। उपनिषद 108 और महापुराण 18 है।

वेद और पुराण में क्या अंतर है?

वेदों का ज्ञान स्वयं परमेश्वर द्वारा दिया गया है ,और पुराणों में वेदों के ज्ञान को सरल भाषा, यानि पुराणों में कथा कहानियो द्वारा समझाया गया है।

यह भी पढ़े:

जानिए गरुड़ पुराण क्यों पढ़ना चाहिए ? | Garud Puran

जानिए विष्णु पुराण में क्या लिखा है? Vishnu Puran in Hindi

Agni Puran अग्निपुराण – पहला अध्याय Chapter – 1

जानिए पद्म पुराण क्या है ? Padma Purana in Hindi

शिव पुराण का पाठ कैसे करें – Shiv Puran in Hindi