हनुमान गोवर्धन पर्वत कथा | Hanuman Govardhan Parvat

Share करें
हनुमान गोवर्धन पर्वत कथा
हनुमान गोवर्धन पर्वत कथा | Hanuman Govardhan Parvat

हनुमान गोवर्धन पर्वत कथा | Hanuman Govardhan Parvat

हनुमान के जीवन की विशेषता यह है कि जो भी उनके संपर्क में आया, वह किसी तरह उन्हें भगवान के करीब ले आये। विभीषण उनसे लंका में मिले। वे उनकी संगति और बातचीत से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने रावण की पूरी सभा में हनुमान का पक्ष लिया और अंत में रावण को छोड़कर राम की शरण में आ गए। उस समय सुग्रीव द्वारा विरोध किए जाने के बावजूद, जब हनुमान ने शरणार्थियों की रक्षा के लिए अपनी प्रतिज्ञा घोषित की तो हनुमान इतने अधिक प्रसन्न थे, कि उनका वर्णन नहीं किया जा सकता। हनुमानजी तुरंत विभीषण को प्रभु के पास ले गए। उनका एक मात्र काम हे, की भगवन के शरण में आनेवाले की सेवा करनी,मदद करनी।  

जब सेतु बांधना शुरू हुवा तब हनुमानजी कितने पहाड़ उठा के लेके आये ,उसकी गिनती नहीं की जा सकती थी। सेतु पूरा बंध ने को आया तब भी वह उत्तर से पहाड़ लेके आ रहे थे।

कैसे किया हनुमानजी ने गोवेर्धन पर्वत का उद्धार – हनुमान गोवर्धन पर्वत

इन्द्र प्रस्थ से कुछ दूर पहुँचने पर उन्होंने देखा कि सेतु का कार्य पूर्ण हो चुका है। उसने सोचा, अब इस पहाड़ को लेने का क्या मतलब है? उन्होंने वहीं पहाड़ रख दिया।

लेकिन वह पहाड़ भी एक साधारण पहाड़ नहीं था, उसकी आत्मा प्रकट हुई और उसने हनुमान से कहा – “भक्तराज! मैंने ऐसा क्या अपराध किया है कि तुम्हारे चरण का स्पर्श पाकर भी मुझे ईश्वर की सेवा से वंचित किया जा रहा है? मुझे यहाँ मत छोड़ो, मुझे वहाँ ले जाओ और मुझे भगवान के चरणों में रखदो, अगर धरती पर जगह नहीं है, तो समुद्र में डुबादो।

अगर में प्रभु के काम ना आ सकू, तो इस जीवन का क्या लाभ ?” हनुमान ने कहा – “गिरिराज! आप वास्तव में गिरिराज हैं। आपकी इस अटूट भक्ति को देखकर मैं आपको ले जाना चाहता हूं, लेकिन भगवान ने घोषित किया है कि अब कोई भी पहाड़ नहीं लाएगा। मैं चिंतित हूँ। लेकिन मैं तुम्हारे लिए भगवान से प्रार्थना करूंगा। जैसा कि वे आदेश देते हैं, मैं आपको जल्द ही बताऊंगा। ”

हनुमान भगवान के पास पहुंचे। उन्होंने भगवान को गिरिराज की सच्चाई और प्रार्थनाएँ प्रस्तुत कीं। प्रभु ने कहा – “हनुमान गोवर्धन पर्वत मेरा सबसे प्रिय है। आपने इसका उद्धार किया है।

आप जाओ और उसे बताओ कि द्वापरयुग में मैं कृष्ण के रूप में अवतार लूंगा और इसे अपने लिए इस्तेमाल करूंगा और सात दिनों तक अपनी उंगली पर रखकर व्रज-जनों की रक्षा करूंगा।

हनुमान गोवर्धन पर्वत के पास व्रज भूमि में गए और गिरिराज गोवर्धन को भगवान का संदेश सुनाया। हनुमान की कृपा से गोवर्धनगिरी, भगवान के परम कृपा पात्र बन गए। यह भगवान की नित्यालीला का हिस्सा बन गए।

यह भी पढ़े:

श्री राम अयोध्या लौट गए | हनुमान भरत संवाद

श्री राम अयोध्या लौट गए | हनुमान भरत संवाद

हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने गए

हनुमान लंका दहन से जुडी 10 बातें | लंका कांड