नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

Share करें
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

शिव पुराण में वर्णित नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा की महिमा आपको सुनाते है। पार्वतीजी के वरदान से दारुका नाम की एक राक्षसी समुद्र तट पर जंगल की रक्षा और देखभाल कर रही थी। दारुका बहुत क्रोधित और अभिमानी थी, उसके पति का नाम दारुक था।

वरदान प्राप्त करने के बाद, कृर हत्याए करना शुरू कर दिया। देवताओं ऋषियों को सताना शुरू कर दिया। साथ ही, धर्म को नष्ट करना शुरू कर दिया, इसलिए ऋषियों इन दोनों के अत्याचारों से परेशान होकर और्व ऋषि के पास गए और दोनों राक्षसों की पीड़ा देने के बारे में बात की।

तब और्व ऋषि ने शाप दिया के यदि वह यज्ञों को नष्ट कर देते है, ऋषिओ को परेशान करते है, जानवरों को मारते है, तो वे दोनों अपने आप नष्ट हो जाएंगे।

और्व ऋषि का श्राप लेकर देवता गण ने उन दोनों पर आक्रमण कर दिया। उन दोनों को और्व ऋषि के श्राप का पता चल गया था। इसलिए वे देवताओं से युद्ध नहीं कर सकते थे।

वे पार्वती के आशीर्वाद से सारे वन और सारी समृद्धि को समुद्र में ले जाने के बाद, वे दोनों बिना किसी डर के रहने लगे और समुद्र में आने वाली नाव के यात्रियों को पकड़ने और मारने लगे, इस प्रकार उन दोनों ने समुद्र में भी सबको सताने लगे।

कुछ समय बाद दारुक अपने राक्षसों के साथ समुद्र में लौट रहा था। फिर उसने कई नावों को आते देखा। उसने अपने साथी राक्षसों के साथ सभी नावों को रोक दिया और सभी यात्रियों को बंदी बनाकर समुद्र में ले गया। उसमे एक शिवभक्त सुप्रिय नाम का व्यक्ति था।

उन्होंने शिव की पूजा शुरू कर दी और साथ ही उन्होंने अन्य कैदियों को शिवलिंग की महानता के बारे में बताया और उन्हें शिवजी की पूजा करने के लिए कहा ताकि अन्य कैदी भी शिव की पूजा करने लगे।

इस बात की दारुक को पता चला तो वह धुआँ पुवा होके वहा आया और सबको बोला ,शिवपूजन बंध करो नहीं तो मैं मार डालूंगा।

तो सुप्रिय वणिक ने भगवान शिव से प्रार्थना की के उन्हें दारुक के भय हो रहा है, वो हमे आपकी पूजा करने की अनुमति नहीं दे रहा हैं, इसलिए दारुक को नष्ट कर दीजिए।

सुप्रिय की प्रार्थना सुनकर, शिव मंदिर के साथ धरती से प्रकट हुए, और पाशुपतास्त्र सुप्रिय वणिक को दे दिया। सुप्रिय वणिक ने इस दिव्य शिवजी द्वारा दिए गए पाशुपतास्त्र से राक्षसों का नाश किया।

उसके बाद शिवजी ने देह धारण किया और सुप्रिय वणिक को आशीर्वाद दिया कि यहां ब्राह्मण, वैश्य, क्षत्रिय और शूद्र सभी अपने धर्म का पालन कर सकेंगे और आप शिव धर्म का प्रचार करिए और यह स्थान आज से पवित्र हो जाएगा, राक्षस इस स्थान पर नहीं आ सकेंगे।

इस तरफ दारुका राक्षसी ने देवी पार्वतीजी का स्मरण किया और अपने वंश की रक्षा करने का अनुरोध किया। दारुका के अनुरोध पर पार्वतीजी ने शिवजी से कहा, नाथ! इस युग के अंत में आपका यह वरदान सत्य होगा।

मुझे इस सत्य को पूरा करने दो। क्योंकि दारुका मेरी ही शक्ति है। इस वन में राक्षशो द्वारा उत्पन्न पुत्रों को रहने दे , मेरा यह वचन सिद्ध करो।

शिवजी ने पार्वती की इच्छा पूरी की और कहा, “ठीक है, अपनी इच्छा पूरी करो और मैं भी नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में यहीं रहूंगा।” कलियुग के अंत में, महासेन का पुत्र मेरा परम भक्त होगा। फिर शिव और पार्वती ज्योतिर्लिंग के रूप में नागेश्वर और नागेश्वरी के रूप में जाने गए।


यह भी पढ़े:

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – Kedarnath Jyotirling

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग कथा – शिव पुराण

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

वैजनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण