त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

Share करें
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

सूतजी कहने लगे। हे ब्राह्मण! अब मैं आप सभी को त्र्यंबकेश्वर ज्योतिलिंग की महिमा सुनाता हु।
आप सभी भक्ति भाव से सुने।

एक समय महासती अहिल्या के पति, ऋषि गौतम ब्रह्म पर्वत पर तपस्या कर रहे थे। उस समय वहा सो वर्षो तक बारिश नई हुई और दुष्काल होने लगा।

जानवर अन्न और जल के लिए तडपने लगे और उनकी मृत्यु होने लगी। इससे गौतम ऋषि बहुत दुखी हुए और वे परेशान हो गए।

इसलिए उन्होंने वरुण देव की छह महीने तक तपस्या की। तो वरुणदेव प्रसन्न हुए और उनसे करदान मांगने को कहा। ऋषि ने कहा ,जानवर अन्न और जल के बिना मरने लगे है, इसलिए आप उन्हें तृप्त करे।

वरुणदेव कहने लगे, हे ऋषि, मैं देवताओं की आज्ञा के बिना वर्षा नहीं कर सकता, लेकिन तुम पृथ्वी में गड्ढा बना लो, गौतम ने पृथ्वी पर एक गहरा गड्ढा खोदा।

वरुणदेव ने गड्ढे में पानी भर दिया और कहने लगे, हे ऋषि! तेरी महिमा इस जल से भरे गड्ढे को कभी खाली नहीं करेगी।

ज्योतिर्लिंग कितने हैं? Shiv Jyotirling List in Hindi

इस प्रकार, भगवान वरुण की कृपा से, गौतम ऋषि को पानी मिला और जानवरों और पक्षियों की बूंदों के लिए चारे के लिए अनाज बोया, जो सभी का पोषण करने लगा।


एक समय जब गौतम के शिष्य जल कुंड से पानी लेने गए, तो अन्य ऋषियों की पत्नियों ने शिष्यों को पानी लेने से रोक दिया और कहा, पहले हम यह पानी लेंगे, फिर जब आपको पानी लेना होगा, तो शिष्यों ने अहिल्याजी को बुलाया। और अहिल्याजी ने शिष्यों को पहले पानी लेने की व्यवस्था की।

तो ऋषि की पत्नियां क्रोधित हो गईं और उन्होंने अपने पतियों को बात को ज्यादा चढ़ाकर कहा, इसलिए फिर ऋषियों ने ऋषि गौतम से बदला लेने के लिए गणपतिजी की पूजा की, तो गणपति प्रकट हुए और ऋषियों से आशीर्वाद मांगने के लिए कहा, तो ऋषिओ ने कहा – हमें गौतम को अपमानित करने और उन्हें निकाल देने की शक्ति दो।

ऋषियों की मांग सुनकर गणपति कहने लगे हैं, ऋषियों! ऐसे साधु से घृणा करना ठीक नहीं है। याद रहे कि ऋषि ने आपके सुख-शांति के लिए जल की व्यवस्था करके आप सभी को प्रसन्न किया, लेकिन जब वे लोग हठ करने लगे तो गणपति कहने लगे, अभी भी मान जाओ नहीं तो इसका परिणाम अच्छा नहीं होगा। पर वह नहीं माने।

कुछ समय बीतने के बाद गौतम ऋषि उस स्थान पर आए, जहां एक दुबली गाय के रूप में एक ऋषि रूप बदल के आये, जो मृत्यु के कगार पर थी।

गाय ऋषि का रास्ता रोक रही थी, इसलिए गौतम ऋषि ने एक पतली छड़ी ली और गाय को रास्ते से हटाने के लिए उसे मारा, लाठी लगते ही गाय की मौत हो गई।

तब उन दुष्ट ऋषियों ने गौतम ऋषि पर गोहत्या का आरोप लगाया और उनका अपमान किया और उन्हें आश्रम छोड़ने के लिए कहा।

इसलिए ऋषि और अहल्याजी दुखी हुए और आश्रम को छोड़कर एक जंगल में चले गए। उन्होंने गौहत्या के पाप से मुक्त होने के लिए गंगा स्नान किया और तप किया।

तप के प्रभाव से शिवजी प्रसन्न हुए और कहने लगे, गौतम ऋषि! आप एक पवित्र आत्मा हैं, आपने कोई पाप नहीं किया है। आप वरदान मांगें।

तब ऋषि ने शिवजी से गंगा की मांग की, जब शिवजी ने प्रसन्न होकर गौतम ऋषि का अनुरोध स्वीकार किया और गंगाजल ऋषि को दिया।

गौतम ऋषि ने गंगा को गोहत्या के पाप से मुक्त करने के लिए कहा, तो गंगाजी सोचने लगे कि ऋषि को गोहत्या के पाप से मुक्त करके मैं वापस चली जाऊंगी स्वर्ग के लिए, लेकिन भगवान शिव ने गंगा को आज्ञा दी कि जब तक यह कलियुग है, तब तक तुम्हें इस धरती पर रहना है।

तब गंगाजी ने शिवजी से कहा, हे प्रभु! तो आपको भी यहां पार्वती के साथ निवास करना पड़ेगा, शिवजी ने गंगाजी की बात मान ली और वहीं बस गए।

उस समय गंगा ने भगवान से पूछा! संसार के सभी प्राणी मेरी महता को कैसे जानेंगे? उसी समय, ऋषि बोले – जिस समय बृहस्पति सिंह राशि में प्रवेश करेगा और वहीं रहेगा, उस समय हम आपके जल में स्नान करेंगे और भगवान भोला नाथ के दर्शन करेंगे , तो हमारे पाप नष्ट हो जाएंगे। यह सुनकर गंगा गोमती नाम से वहीं बस गई और शिवलिंग त्र्यंबकेश्वर ज्योतिलिंग के रूप में प्रसिद्ध हो गए।


यहां गंगा नदी में पहले ऋषि गौतम ने स्नान संध्या विधि की थी, इसलिए इसे गंगाजी-गंगा-द्वारका कहा गया, फिर दूसरे ऋषि स्नान करने आए, इसलिए गंगाजी अद्रश्य हो गए।

तब गौतम ऋषि ने गंगा जी से प्रार्थना की के आप द्रश्यमान हो और ऋषियों को स्नान करने दो। तब गंगाजी कहा – यह कृतज्ञ मुनियों को मैं नहीं दिखूंगी , तब गौतम ऋषि अधिक प्रार्थना करने लगे।

गंगाजी कहने लगे, हे गौतम ऋषि, यदि यह कृतघ्न ऋषियों पार्वतीजी की सो बार परिक्रमा करे , तो मैं उन ऋषियों को दर्शन दूँगी। तब वे ऋषियो को पछ्तावा हुआ अपनी भूल कबूल की तब गंगा जी ने उन्हें दर्शन दिए।


यह भी पढ़े:

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – Kedarnath Jyotirling

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग कथा – शिव पुराण

वैजनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण