घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा
घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

शिव पुराण में वर्णित शिव के एक और ज्योर्तिर्लिंग घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा आपको सुनाते है।
एक सुधर्मा और सुदेहा, एक ब्राह्मण पति और पत्नी, शिवजी के सर्वोपरि भक्त थे।

सुदेहा बहुत दुखी थी, क्यूंकि इस ब्राह्मण जोड़े का कोई पुत्र नहीं था। उसके पति ने उसे समझाया और उसे आश्वासन दीया, लेकिन सुदेहा संतुष्ट नहीं हुई।

vachanbaddh news

तो उन्होंने एक बार सुधर्मा से कहा – कि अगर मेरा कोई पुत्र नहीं हुआ, तो में अपना शरीर छोड़ दूंगी। तब सुधर्मा ने शिवजी को याद करते हुए, दो फूल जमीन पर रख दिए।

सुदेहा को एक फूल लेने को कहा गया, तो सुदेहा ने एक फूल उठाया, तो सुधर्मा ब्राह्मण कहने लगे – सुदेहा! जो कुछ भी भगवान द्वारा बनाया जाना है, वह ही होगा, लेकिन हमारे भाग्य में पुत्र नहीं है, इसलिए अब आपको और मुझे शिव की पूजा करनी चाहिए।

सुदेहा अपने पति के वचनो से संतुष्ट नहीं थी, वह किसी भी मामले में सुधर्मा के माध्यम से एक पुत्र चाहती थी। इसलिए वह अपनी छोटी बहन धुश्मा को ले आई, और उसका विवाह सुधर्मा से कर दिया।

यह धुश्मा भी शिव की भक्त थी, इसलिए उसने प्रतिदिन शिवजी के सौ पार्थिव शरीर बनाए और उनकी पूजा की। इस प्रकार भगवान भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उनकी कृपा से घुश्मा को एक पुत्र रत्न प्राप्त हुआ।

जैसे-जैसे पुत्र बड़ा होता गया, धुश्मा ने उसका विवाह कर दिया। पुत्रवधु घर आयी, तो सुदेहा ईर्ष्या की आग में जलने लगी, क्योंकि अब घुश्मा का सम्मान पहले से कहीं अधिक बढ़ गया था।

इस प्रकार, ईर्ष्या से, सुदेहा अघटित कार्य करने के लिए तैयार हुई। इसलिए एक रात जब सो रहे थे, तब सुदेहा ने घुश्मा का पुत्र जिस स्थान पर वह सो रहा था, वहां जाकर उसने तलवार से उसके टुकड़े कर दिए और उन टुकड़ों को इकट्ठा करके घुश्मा जिस सरोवर मे शिवलिंग अर्पित करती वहा जाके फेंक दिया और घर में आकर चुपचाप सो गयी।

सुबह जब घुश्मा की पुत्रवधु उठी, तो उसने अपने पति को बिस्तर पर नहीं देखा और उसका बिस्तर खून से लथपथ था।

घुश्मा ने वहाँ देखा लेकिन शांत चित से पुत्र वधु को कहने लगी , बेटा! आप कल्पांत न करे। जो कुछ होना है, वह ईश्वर की कृपा से होना है। इस प्रकार बहू को सांत्वना दी।

दैनिक नियम के अनुसार, धुश्मा ने पार्थिवलिंग बनाए, उनकी पूजा की और उसे प्रवाहित करने के लिए सरोवर गयी, वहा उसने अपने पुत्र को देखा।

घुश्मा ने शिवजी को धन्यवाद दिया, उनकी प्रशंसा की और अपने पुत्र को गले लगा लिया। फिर बेटा कहने लगा। हे! माँ मैं मर गया हूँ, लेकिन मैं जीवित हूँ, केवल आपकी शिव भक्ति और आपके पुण्य के कारण, वहाँ भोले शिव शंभू प्रकट हुए और घुश्मा से कहने लगे।

तेरी बड़ी बहन ने तेरे पुत्र को मार कर झील में फेंक दिया था। अब मै इस बुरे काम के कारण उसका वध करूँगा। तब घुश्मा ने शिवजी से अपनी बहन को क्षमा करने का अनुरोध किया और कहा – आप मेरी प्रार्थना से प्रसन्न हुवे हैं, अत: यहीं पर स्थित हो जाये। शिवजी ने धुश्मा की प्रार्थना स्वीकार कर ली और घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग के नाम से प्रसिद्ध हुवे।


यह भी पढ़े:

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – Kedarnath Jyotirling

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग कथा – शिव पुराण

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

वैजनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

Share
vachanbaddh news

Similar Posts