जाने अवनि लेखरा जीवन परिचय | Avani Lekhra Biography in Hindi

Share करें
अवनि लेखरा जीवन परिचय | Avani Lekhra Biography in Hindi
अवनि लेखरा जीवन परिचय | Avani Lekhra Biography in Hindi

जाने अवनि लेखरा जीवन परिचय | Avani Lekhra Biography in Hindi

आसमान में उड़ने का ख्वाब रखने वाली एक ऐसी लड़की जिसने भारत का नाम गर्व से ऊँचा कर दिया, जी हां आज हम बात कर रहे है, पैरालंपिक में गोल्ड मैडल जितने वाली लड़की अवनि लेखरा के बारे में , क्या आप नहीं जानते अवनि लेखरा कौन है, अवनि लेखरा किस खेल से जुडी हुई है, अवनि लेखरा कहा की रहने वाली है? तो चलिए जानते है, अवनि लेखरा के बारे में पूरी जानकारी।

टोक्यो ओलम्पिक में छठा दिन भारत के नाम रहा, भारत ने अपनी शुरुआत गोल्ड मैडल हासिल कर के की, और आज भारत को पहला गोल्ड अवनि लेखरा ने दिलवाया।

अवनि लेखरा कौन है?

अवनि लेखरा भारत की महिला पैरा रायफल निशानेबाज़ है। उनका नाम टॉप 5 महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल एसएच-1 में आता है। 

अवनि लेखरा का नाम वर्ल्ड शूटिंग पैरा रायफल निशानेबाज़ में टॉप 5 में दर्ज है। अवनि लेखरा के पिता  नाम प्रवीण लेखरा है। और माता का श्वेता लेखरा है।

पैरालंपिक में अवनि लेखरा का प्रदर्शन

टोक्यो पैरालंपिक निशानेबाज़ी में अवनि लेखरा ने 10 मीटर एयर राइफल एसएच-1 की फाइनल में स्वर्ण पदक जित के भारत का नाम रोशन किया है।

इस के साथ अवनि लेखरा स्वर्ण पदक की जीत हासिल करके अपना स्थान पहली महिला के रूप में अपना नाम दर्ज करवा लिया है। और एक बात आपको बतादे की अवनि लेखरा ने 2016 में भी 10 मीटर एयर राइफल एसएच-1 में गोल्ड मैडल जीता था।

अवनि लेखरा जीवन परिचय

अवनि लेखरा राजस्थान के जयपुर की रहनेवाली है। अवनि लेखरा का जन्म 8 नवंबर 2001 में हुआ था।  

अवनि ने राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर से लॉ की पढाई की है। अवनि लेखरा का साल 2012 में एक कार एक्सीडेंट हुआ था।

इस एक्सीडेंट में अवनि को काफी गंभीर चोट आई थी। जब उसे हस्पताल लेगए तब मालूम पड़ा के उसकी रीड की हड्डी टूट चुकी है।

वह समय अवनि के लिए काफी दुखदाई था, क्यूंकि इसके बाद अवनि बिना व्हीलचेर के नहीं चल सकी। उसे हमेशा के लिए व्हीलचेर पे बैठना पड़ा।

इसके बाद भी वह हार नहीं मानी ,वह हताश नहीं हुई और अपनी पढाई चालू रखी। एक बार अवनि को उसके पिताने खेल की दिशा में रुख करने को बतलाया।

पिता ने कहा की वह तीरंदाज़ी और निशानेबाज़ी की और अपनी रूचि और किस्मत आज़माए।  पिता की सलाह और सपोर्ट से आज अवनि ने वह कर दिखाया जो किसी भी देश के लिए बड़ी गर्व की बात होगी।

अवनि ने गोल्ड मैडल जितके यह साबित कर दिया के विप्पतिओ के सामने लड़के ही बुलंदियों को छुया जा सकता है।

शूटिंग की प्रेरणा कैसे मिली?

अवनि के साथ हुई घटना के बाद अवनि मानो विखर चुकी थी। इस समय उसने अभिनव बिंद्रा द्वारा लिखित किताब पढ़ी और शूटिंग के खेल के लिए प्रेरित हुई।

फिर 2015 में जगतपुरा स्पोर्ट्स जयपुर से कोचिंग लेना शुरू किया। इसके बाद 2017 में यूएई में आयोजित शूटिंग वर्ल्ड कप में अपना डेब्यू किया।

.

अवनि लेखरा का सोशल मीडिया एकाउंट्स

Instagram: @avani.lekhara | Twitter: @AvaniLekhara

गणेश चतुर्थी कब है: जाने तिथि, स्थापना विधि,और व्रत कथा