Maa Kali Ki Katha | महाकाली की कहानी

Share करें
Maa Kali Ki Katha
Maa Kali Ki Katha

Maa Kali Ki Katha | महाकाली की कहानी

Maa Kali Ki Katha की अनेक अलग-अलग कहानिया मिलती है। आज हम पुराणों में वर्णित Maa Kali Ki Katha का वर्णन करेंगे।

महाकाली कौन है?

माँ काली शक्ति का एक भयानक रूप है। एक दुष्ट राक्षश के विनाश के लिए उनका अवतरण हुवा था।

उनकी त्वचा काली है, उनकी आभूषण खोपड़ी का एक लंबा हार और उनके कई हाथ है। उनकी जीभ तरस्ती गर्म खून के लिए बाहर लटकी हुई है।

Dhanteras 2021: धनतेरस 2021 में कब है,जाने तिथि, पूजा, महत्त्व

Diwali 2021: दिवाली 2021 कब है, जाने तिथि, पूजा विधि, कथा

महाकाली की उत्पत्ति कैसे हुई?

रक्तबीज नाम का एक राक्षश था ,उसे ब्रह्माजी से वरदान प्राप्त था, के उसे स्त्री के आलावा और कोई मार नहीं सकता था।

उसे यह भी वरदान था के उसके खून की एक बूँद ज़मीं पर गिरे तो एक और रक्तबीज राक्षश पैदा हो जाये। उसने देवताओ और ब्राह्मणो पर अत्याचार करके तीनो लोको में कोहराम मचा रखा था।

देवता इस वरदान के कारण रक्तबीज को मारने में असमर्थ थे। युद्ध के मैदान में, जब देवता उसे मारते हैं, तो उसके खून की हर बूंद जो जमीन को छूती है, खुद को एक नए और अधिक शक्तिशाली रक्त बीज में बदल देती है, और पूरे युद्ध के मैदान को लाखों रक्त बीज के साथ से युद्ध करना पड़ता।

निराशा में देवताओं ने मदद के लिए भगवान शिव का रुख किया। लेकिन जैसे ही भगवान शिव उस समय गहरे ध्यान में थे, देवताओं ने मदद के लिए उनकी पत्नी पारवती की ओर रुख किया। देवी ने तुरंत काली के रूप में इस खूंखार दानव से युद्ध करने के लिए निकल पड़े।

श्री दुर्गा सप्तशती पाठ कैसे करें जाने संपूर्ण जानकारी

9 शक्तिशाली माँ काली को बुलाने का मंत्र अर्थ सहित – Kaali Mantra in Hindi

महाकाली ने रक्तबीज को कैसे मारा?

माता युद्ध करते समय जैसे ही उसे मारती तो रक्तबीज के शरीर की बूंद से एक नया रक्तबीज उत्पन्न होने लगा। 

तब माता ने अपनी जीभा का आकर बड़ा कर लिया और फिर रक्तबीज का जैसे ही रक्त गिरता, तो वह माता के जीभा में गिरता, ऐसे करते-करते रक्त बीज कमज़ोर होने लगा, फिर माता ने उसका वध कर दिया।

शाकम्भरी देवी के 3 शक्तिपीठ | Shakambhari Temple History in Hindi

दक्षिणेश्वर काली मंदिर का रहस्य

मां काली ने शिव जी के ऊपर पैर क्यों रखा?

रक्तबीज का वध करने के बाद महाकाली माता का क्रोध शांत नहीं हो रहा था। उनका अति विक्राल स्वरुप के सामने आने से सब लोग डरने लगे,और उनके सामने जो भी आता उनका विनाश कर देती,उनको स्वयं ही नहीं पता था के वह क्या कर रही है। 

देवताओ की चिंता बढ़ गई के महाकाली माँ का गुस्सा कैसे शांत करे। तब देवता महादेव के पास गए और उनको विनंती की के माता को शांत करने का कोई मार्ग बताये। तब स्वयं भगवन शिव ने अनेक उपायों किये पर माता शांत न हो पाई।

आखिर शिव जी ने खुद को माता के पैरो के बिच गिरा दिया और जैसे ही माता को शिवजी का स्पर्श हुवा। माता शांत हो गई, और महाकाली से पारवती बन गई। फिर सारे देवतागण जयजयकार करने लगे।

Maa Kali Ki Katha आशा करते है आपको अच्छी लगी होगी ,सम्पूर्ण कथा सुनने के लिए आपका धन्यवाद।

जय महाकाली।


महाकाली किसका अवतार है?

माँ काली माँ दुर्गा का ही अवतार है।

जानिए वेद क्या है? संपूर्ण जानकारी | 4 Vedas in Hindi

माँ काली को क्या पसंद है?

माँ काली को गुड़ अतिप्रिय है ,महाकाली को गुड़ का भोग लगाने से भक्त की सभी मनोकामना पूर्ण होती है।

यह भी पढ़ें:

कामाख्या देवी मंदिर का रहस्य जानकर हो जायेंगे हैरान!!

पुराणों में वर्णित सती और पारवती की कहानी

Maa Kali Ki Katha | महाकाली की कहानी

Durga Ji दुर्गा जी कौन थी | Durga Devi Katha

जानिए मार्कण्डेय पुराण का संक्षिप्त वर्णन