चैत्र नवरात्रि व्रत कथा | चैत्र नवरात्रि 2021
|

चैत्र नवरात्रि व्रत कथा | चैत्र नवरात्रि 2021

चैत्र नवरात्रि व्रत कथा | चैत्र नवरात्रि 2021 शाष्त्रो के अनुसार, चैत्र नवरात्री करने का फल, अश्वमेघ यग्न के समान बताया गया है। जिसे सुनने मात्र से ही, मोक्ष का मार्ग सुलभ हो जाता है। एक बार यह कथा, ब्रह्माजी ने बृहस्पति को सुनाई थी। ब्रह्माजी ने कहा के यह चैत्र नवरात्रि व्रत कथा का…

महाशिवरात्रि व्रत कथा || Mahashivratri Vrat Katha || Mahashivratri ki Kahani
|

महाशिवरात्रि व्रत कथा || Mahashivratri Vrat Katha || Mahashivratri ki Kahani

महाशिवरात्रि व्रत कथा || Mahashivratri Vrat Katha || Mahashivratri ki Kahani महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर शिव की पूजा के साथ, महाशिवरात्रि व्रत कथा सुनने का भी अधिकमहत्व है। एकबार माता पारवती ने शिवजी से पूछा, के ऐसा कोनसा व्रत, तथा पूजन है, की मृत्युलोक के प्राणीमात्र, आपकी कृपा सहज ही प्राप्त कर सकते है।…

महाशिवरात्रि व्रत – Mahashivratri Sadhana
|

महाशिवरात्रि व्रत – Mahashivratri Sadhana

महाशिवरात्रि व्रत – Mahashivratri Sadhana 1. महाशिवरात्रि व्रत क्यों किया जाता है? महा शिवरात्रि पर, महादेव के उत्साही भक्त, उपवास करते हैं, पूजा करते हैं और ध्यान का अभ्यास करते हैं, जिससे स्वास्थ्य, धन, सफलता और जागृति आती है। उपवास शरीर और सहायता ध्यान को detoxify करता है। यह आपके शरीर को हल्का महसूस करने…

Shivratri 2021 in Hindi – शिवरात्रि पर, ध्यान रखने योग्य महत्वपूर्ण ,और रहस्य्मय बाते।
|

Shivratri 2021 in Hindi – शिवरात्रि पर, ध्यान रखने योग्य महत्वपूर्ण ,और रहस्य्मय बाते।

Shivratri 2021 in Hindi – शिवरात्रि पर, ध्यान रखने योग्य महत्वपूर्ण ,और रहस्य्मय बाते। हम सभी जानते है, की महादेव ऐसे एक मात्र देव हे, की वह जल्दी प्रसन्न हो जाते है। और उनके भक्तो की मनोकामना, तुरंत पूर्ण कर देते है ,और उसमे भी महाशिवरात्रि को,  महादेव का दिन माना गया है। परन्तु कुछ…

Basant Panchami 2021 | बसंत पंचमी से जुडी पौराणिक कथा और महत्व
|

Basant Panchami 2021 | बसंत पंचमी से जुडी पौराणिक कथा और महत्व

Basant Panchami 2021 | बसंत पंचमी से जुडी पौराणिक कथा और महत्व 11 Dhan Prapti Ke Upay || वास्तु अनुसार धन को आकर्षित करने के उपाय

मकर संक्रांति से जुडी उत्तरायण, पोंगल, लोहड़ी, भोगली बिहू और खिचड़ी से जुडी विशेषताए और पौराणिक महत्व
|

मकर संक्रांति से जुडी उत्तरायण, पोंगल, लोहड़ी, भोगली बिहू और खिचड़ी से जुडी विशेषताए और पौराणिक महत्व

5 Secrets Of Hanuman | हनुमान से जुड़े रहस्य

Dhanteras 2021: धनतेरस 2021 में कब है,जाने तिथि, पूजा, महत्त्व

Dhanteras 2021: धनतेरस 2021 में कब है,जाने तिथि, पूजा, महत्त्व

Dhanteras 2021: धनतेरस 2021 में कब है,जाने तिथि, पूजा, महत्त्व धनतेरस (Dhanteras) यानि धन और तेरस यानि तेहरवा गुना, कहते है यह दिन धन की वस्तु खरीदने पर वह धन तेरहवा गुना होके वापस आता है। हिंदू धर्म में धनतेरस का काफी अधिक महत्व बताया गया है। धनतेरस को धनत्रयोदशी भी कहते है। यह दिन…

Diwali 2021: दिवाली 2021 कब है, जाने तिथि, पूजा विधि, कथा

Diwali 2021: दिवाली 2021 कब है, जाने तिथि, पूजा विधि, कथा

दिवाली की कथा एक समय में एक शाहूकार था। उसकी एक बेटी थी। उसकी बेटी रोज़ पीपल के पेड़ पर जल चढाती थी। उस पीपल के पेड़ पर लक्ष्मी जी का वास था।  एक बार लक्ष्मी जी ने शाहूकार की बेटी को कहा की में तुम्हारी सहेली बनना चाहती हु। तब शाहूकार की बेटी ने अपने पिता से…

Mata Ke Nau Roop | नौ रूपों की कथा | मां के 9 रूपों का वर्णन | Navratri 2021

Mata Ke Nau Roop | नौ रूपों की कथा | मां के 9 रूपों का वर्णन | Navratri 2021

Mata Ke Nau Roop | नौ रूपों की कथा | मां के 9 रूपों का वर्णन | Navratri 2021 जाने दुर्गा की नौ शक्तिओ (Mata Ke Nau Roop) से मिलने वाले सुख समृद्धि और धनवर्षा का रहस्य नवरात्री माँ दुर्गा के नौ स्वरुप नौ दिनों की पूजा करके मनाया जाता है। इस साल नवरात्री 7 अक्टूबर…

शारदीय नवरात्रि 2021, जाने नवरात्री में क्या करे, क्या ना करें?

शारदीय नवरात्रि 2021, जाने नवरात्री में क्या करे, क्या ना करें?

अगर आप माँ भगवती की कृपा की प्राप्ति चाहते हैं, तो आपको इन नवरात्रों में माता को प्रसन्न जरूर करना चाहिए। साथियों, इन नवरात्रों को आश्विन नवरात्र और शारदीय नवरात्र भी कहा जाता है। क्योंकि सर्दी की ऋतु प्रारंभ होने लगती है, इसलिए इनका नाम शारदीय नवरात्र भी कहा जाता है। तो आइये जानते है,…

Pitru Paksha 2021 | श्राद्ध कब से शुरू है 2021 | Shradh Paksha

Pitru Paksha 2021 | श्राद्ध कब से शुरू है 2021 | Shradh Paksha

Pitru Paksha 2021 | श्राद्ध कब से शुरू है 2021 | Shradh Paksha मानवी द्वारा श्रद्धा से दी जाने वाली वस्तु को ही श्राद्ध (Shradh) माना जाता है। श्राद्ध कर्म में पितृ पूजा किये बिना ही किसी भी अन्य चीज़ों,कार्य का अनुष्ठान करता हे, तो उसकी वह क्रिया का फल राक्षशो को मिलता है। तो…