हनुमान पहुंचे लंका | हनुमान विभीषण मिलन

Share करें
हनुमान विभीषण संवाद
हनुमान पहुंचे लंका | हनुमान विभीषण मिलन

हनुमान पहुंचे लंका | हनुमान विभीषण मिलन

जब हनुमान पहुंचे लंका

जब हनुमान पहुंचे लंका उन्होंने देखा ,एक बड़ा सुंदर जंगल था। हरे-भरे पेड़, सुगंधित फूल, पक्षियों की चहचहाहट और भवरो की गुनगुनाहट जो मन को मोह ले। लेकिन हनुमान ने उसकी ओर देखा तक नहीं। वह कूदकर पहाड़ की चोटी पर चढ़ गए। उन्होंने तय किया कि यह स्थान शिविर के लिए उपयुक्त था। वानरों के लिए यहां पर्याप्त फल है, मीठा पानी भी है, और सबसे बड़ी बात यह है कि यहां से पूरी लंका दिखाई देती है। वहां रहते हुए हनुमान ने लंका के बारे में बहुत कुछ जाना। उन्होंने लंका में किले की दुर्गमता का अनुमान लगाया और फैसला किया कि यहां हर एक चीज जान लेनी चाहिए। यह काम करना सीता को खोजने के साथ-साथ मेरा कर्तव्य है।

इतने विशाल शरीर के साथ हनुमान पहुंचे लंका में और जब लंका में प्रवेश किया और विशाल शरीर के साथ वहां सब कुछ पता लगाना असंभव था। इसलिए महावीर हनुमान ने मानो अणिमा सिद्धि का प्रयोग कर स्वयं को छोटा सा रूप बना लिया और भगवान का स्मरण करते हुवे लंका के द्वार पर पहुंच गए।

हनुमान लंकिनी संवाद

लंका नगर की अधिष्ठाती देवी लंकिनी शाम को हनुमानजी को छिपते हुवे उन्हें प्रवेश करते देखा। वह हनुमान के पास आयी और उसे चेतावनी दी,  क्या तुम चोरी करना चाहते हो? ” हनुमान ने उसे पीठ पर दे मारा, वह लहू लुहान होकर ज़मीं पर गिर पड़ी।

उसने खुद को संभाला और कहा – “हे देव , अब मैं आपको जान गई हु। ब्रह्मा ने मुझे पहले ही बता दिया था, कि जब आप वानर की पिटाई के कारण ऐसी अवस्था में होते हैं, तो मान लेना कि रावण का अंत आ गया है।

” लंकिनी ने रास्ता दिया। हनुमान अंदर दाखिल हुए। उसने लंका में प्रवेश किया और राक्षसों के आहार ,विहार और शयन की जगहें देखीं। उन्होंने उनका शस्त्रागार, सम्मेलन कक्ष, शिविर आदि भी देखा।

उन्होंने सीताजी को खोजने के लिए रक्षासूत्र रावण के आंतरिक शहर को भी खोजा। उन्होंने मंदोदरी आदि महिलाओ को भी देखा। लेकिन सीताजी कहीं नहीं मिली।

वे चिंतित हो गए। उन्हें गहरा दुख हुआ। वे सोचने लगे – “कहीं मैंने धर्म का उल्लंघन तो नहीं किया है?” परस्त्री को देखना अधर्म है। मैंने पहले कभी इस तरह का पाप नहीं किया था, लेकिन आज मेरे साथ अन्याय हुआ है।

” वे चिंतित हो गए। अगले ही पल एक और ख्याल उसके दिमाग में आया। उस समय भगवान का स्मरण करने से उनका मन साफ ​​हो गया ,और वे एक निश्चय पर पहुंच गए।

उन्होंने सोचा, “मेने परस्त्री को ज़रूर देखा है. लेकिन बुरी नज़र से नहीं। मेरे मन में कोई विकार नहीं। मन इंद्रियों की शुभ या अशुभ गतिविधि का कारण है। मेरा मन बिलकुल शुद्ध है।

मैं सीता को और कहाँ खोज सकता हूँ? वह हिरणों में तो नहीं पाई जा सकती। मैंने अपनी शोध शुद्ध दिमाग से कि है, इसलिए मेरे साथ कुछ भी गलत नहीं है।

हनुमान विभीषण मिलन

हनुमान ने अन्य स्थानों पर भी खोज करने का प्रयास किया। आगे बढ़ते हुए उन्होंने एक छोटी कुटिया देखी। राम का नाम कुटीर की दीवार पर अंकित था, जो रत्नों की चमक के कारण स्पष्ट दिखाई दे रहा था।

छोटे छोटे धाराओं के बीच तुलसी के पौधे, केसर और सुगंधित फूल थे। भगवान का एक छोटा सा मंदिर था, जो पत्ती की कुटीर के सामने भगवान के शाश्त्र से बने चित्रों के साथ था। हनुमान को लंका में बहुत आश्चर्य हुआ

वे उत्साहित थे! | यह ब्रह्ममुहूर्त का समय था। विभीषण उठे, और “राम राम” का जाप करने लगे। हनुमान को विश्वास हुवा कि यह एक संत पुरुष है। हनुमानजी विभीषण का परिचय लेने के लिए उत्सुक हुए। 

हनुमान ने ब्राह्मण का रूप धारण किया और ‘राम राम’ का उच्चारण किया। विभीषण तुरंत बाहर आ गए। भगवान के दो भक्त एक-दूसरे से मिले।

हनुमान विभीषण संवाद

उनके हृदय प्रेम और आनंद से भर गए। हनुमान ने विभीषण के ह्रदय में साक्षात भगवान को देखा, और विभीषण हनुमान को साक्षात भगवान के रूप में मानने लगे। दोनों में पहचान हुई। हनुमान ने उन्हें अपने दयालु भगवान के पवित्र चरित्र और सीताहरण की घटना को सुनाते हुए, उनके आने का कारण बताया।

विभीषण ने कहा – “प्रिय हनुमान! मैं यहां इस तरह से परेशानी में रहता हु,  जैसे जीभ दांतों के बीच रहती है। क्या प्रभु कभी मुझ अनाथ को अपनाएंगे? मेरी जाति तमोगुणी है। मेरे पास भक्ति का कोई साधन नहीं है।

पहले मैं यह सोचता था ,के अगर ईश्वर के चरणों में प्रेम नहीं है, तो मैं ईश्वर को पाने की आशा कैसे कर सकता हूं? लेकिन अब तुम्हें देखकर मेरा मन भर रहा है; क्योंकि भगवान की कृपा के बिना, उनके अनुग्रह संत प्रकट नहीं होते हैं। भगवान की कृपा से आप घर आए हैं और मुझे दर्शन दिए हैं। इतना तो तय है कि संतदर्शन ईश्वर से मिलने की निशानी है।

” हनुमान ने कहा – विभीषण ! हमारे प्रभु बहुत दयालु है। वे हमेशा अपने भक्त के प्रति दयालु रहते हैं। आप अपने लिए बोलते हैं, लेकिन मैं कहाँ से हूँ?  मैं तो एक साधारण वानर हूँ, चंचल और असहाय! अगर कोई प्रातःकाल मेरा नाम भी लेता है, तो उसे पूरे दिन भोजन नहीं मिलता।

सखा विभीषण ! भले ही मैं इतना अधम हूँ, पर फिरभी प्रभु की मुझ पर असीम कृपा रही है। जो लोग भगवन को दयालु जानकर भी उनकी पूजा नहीं करते, वह संसार में भटकते रहते है, वे दुखी क्यों न हो? ” भगवान के अपार गुणों को याद करते हुए, हनुमान का हृदय गद-गद  हो रहा था।

उनकी आँखों में अश्रुओ की धारा बहने लगी। विभीषण और हनुमान के बीच काफी बातें हुईं। फिर विभीषण ने माता सीता के बारे में बताते हुवे उनको अशोक वाटिका भेजा। इस प्रकार हनुमान पहुंचे लंका और वहा हनुमान विभीषण मिलन हुआ।

हनुमान पहुंचे लंका से जुड़े प्रश्न उत्तर


हनुमान जी ने लंका में क्या किया?

जब हनुमान पहुंचे लंका में तब उन्होंने रावण के अश्त्र शास्त्र और कई सारी गुप्त जानकारिओं का पता लगाया और फिर विभीषण के साथ उनका मिलन हुवा।

हनुमान जी कैसे पहुंचे लंका?

हनुमानजी वायु देव के पुत्र थे। तो उनको जन्म से ही उड़ने की शक्तिया उनके पिता से मिली थी। इसीलिए वह आकाश मार्ग से उड़के समुद्र को पार किया था ,और हनुमान पहुंचे लंका।

हनुमान के रास्ते में कौन कौन सी राक्षसियाँ आईं?

हनुमान के रस्ते में सुरसा नाम की राक्षशी आई। फिर राहु माता सिंहिका का सामना हुवा था।

क्या विभीषण जीवित है?

प्रभु श्री राम ने विभीषण को अजर अमर रहने का आशीर्वाद दिया था। वह सात चिरंजीवियों मेसे एक है। और कलयुग के अंत में भगवन कल्कि अवतार में वह प्रगट होंगे।

विभीषण के द्वार पर हनुमान जी ने कौन सी निशानी देखी थी?

विभीषण के द्वार पर हनुमानजी ने शंख ,चक्र और गदा देखि थी। और कुटीर के ऊपर राम का चिन्ह और तुलसी का पौधा देखा था। तभी हनुमानजी समज गए थे की यह किसी राम भक्त का घर है।


यह भी पढ़े:

देवताओ ने ली हनुमान की परीक्षा | Hanuman ki Pariksha

हनुमान को शक्ति याद दिलाना

Mata Sita ki Khoj | रामायण में सीता की खोज

राम हनुमान भेंट | Ram Hanuman Milan