हनुमान जी को श्राप क्यों मिला

Share करें
हनुमान जी को श्राप क्यों मिला
हनुमान जी को श्राप क्यों मिला

हनुमान जी को श्राप क्यों मिला

हनुमान बचपन में बहुत शरारती थे। एक तो वह बंदर , दूसरा बालक और तीसरा देवताओं से प्राप्त शक्तिया। और रुद्र काअंश तो वो थे ही !

वह ऋषिओ के आसान छीन लेते और उन्हें पेड़ों पर लटका देते, उनके कमंडलों से पानी गिरा देते , और उनकी लंगोट भी फाड़ देते।

कभी-कभी खेलनेके लिए वह किसी की गोद में बैठ जाते और अचानक उनकी दाढ़ी खींचकर भाग जाते। कोई उन्हें जबरदस्ती रोक नहीं सकता था। सभी असहाय थे।

हनुमान बड़े हुए, शिक्षा का समय आया, लेकिन उनकी चंचलता ज्यों की त्यों बनी रही। अंजना और केसरी बेहद चिंतित हो गए। उन्होंने सब किया जो वह कर कर सकते थे , लेकिन हनुमान नहीं सुधरे। उन्होंने ऋषियों से प्रार्थना की, “यह बच्चा तभी ठीक हो सकता है जब आप लोग कुछ सोचे इसके बारेमे।


हनुमान जी को श्राप क्यों मिला

ऋषियों ने सोचा और फैसला किया कि हनुमान को अपनी ताकत पर बहुत गर्व है।  अगर वह अपनी ताकत भूल जाता है,तो काम हो जायेगा , उन्होंने हनुमान को शाप दिया तुम अपनी ताकत को भूल जाओ! उचित समय पर जब कोई आपको अपनी शक्ति याद दिलाएगा, तो अपनी ताकत को याद करते हुए, आप फिर से बलवान हो जाएंगे।

ऋषियों ने सोचा और फैसला किया कि हनुमान को अपनी ताकत पर बहुत गर्व है।  अगर वह अपनी ताकत भूल जाता है,तो काम हो जायेगा , उन्होंने हनुमान को शाप दिया तुम अपनी ताकत को भूल जाओ! उचित समय पर जब कोई आपको अपनी शक्ति याद दिलाएगा, तो अपनी ताकत को याद करते हुए, आप फिर से बलवान हो जाएंगे।

 ” हनुमान अपनी ताकत भूल गए।

अब उनके अध्ययन का समय आ गया था। वानरराज केसरी ने उचित संस्कार के लिए उन्हें वैदिक अध्ययन के लिए सूर्य देव के पास भेजा।

वहाँ जाकर हनुमानजी ने सभी वेदों और वेदांगों का अध्ययन किया। उन्हें अध्ययन से क्या लेना-देना था? क्यूंकि वह वास्तव में शिव ही थे; फिर भी उन्होंने पंथ-परंपरा को बनाए रखने के लिए विज्ञान का गहन अध्ययन किया।

कुछ ही दिनों में वह अपने माता-पिता के पास लौट आया। माता-पिता अपने पुत्र को सूर्य की कृपा से सर्व विद्याओ में सर्वज्ञता लीन देखकर बहुत खुश हुवे।