हनुमान अहिरावण युद्ध | Hanuman Ahiravan Yudh

Share करें
हनुमान अहिरावण युद्ध
हनुमान अहिरावण युद्ध हनुमानजी और मक्करध्वज

हनुमान अहिरावण युद्ध | Hanuman Ahiravan Yudh

रात का समय था। हनुमान जी पहरा दे रहे थे। विभीषण के वेश में अहिरावण आया। हनुमान ने उन्हें बुलाया और पूछा, ‘भैया! इतनी देर रात कहाँ से आ रहे हो?”

उसने कहा – भगवान की आज्ञा पर वह संध्या करने गए थे। आने में बहुत देर हो चुकी है।” सभी के सो जाने के बाद, अहिरावण राम और लक्ष्मण को कंधे पर उठाकर भाग गया। भगवान को क्या कोई हरन कर सकता है? लक्ष्मण तो १४ बरस बिल्कुल ही नहीं सोये थे।

लेकिन जब भगवान अपने भक्तों की महिमा प्रकट करना चाहते हैं, तो वे उन्हें सामान्य मनुष्यों की तरह ही लीला करते हैं। आज हनुमान की महिमा प्रकट होनी थी। वे चुपचाप अहिरावण के कंधे पर चल पड़े।

अगली सुबह सेना में बहुत कौतुहल मच गई। सुग्रीव, जाम्बवन, विभीषण – सभी सावधान हो गए। हनुमान ने घटना का वर्णन किया।

विभीषण ने कहा – “यह अहिरावण का मायाजाल है। मेरा भेष कोई और नहीं ले सकता।” हनुमान ने कहा – “वह कितना भी शक्तिशाली क्यों न हो, वह कितना भी मायावी क्यों न हो, मैं उसके पास जाऊंगा और हनुमान अहिरावण युद्ध होगा और में उसका वध कर दूंगा और मेरे प्रभु को वापस लाऊंगा।”

हनुमान यात्रा शुरू करते हैं। संयोग से रास्ते में कुछ ऐसा हुआ, दैवी प्रेरणा से कुछ जानकारी मिली कि अहिरावण भगवान को नागलोक ले गया है। वहां जाकर हनुमान ने महल में प्रवेश करने की कोशिश की, लेकिन मकरध्वज ने उन्हें रोक दिया और कहा – “आप कौन हैं? क्या आप नहीं जानते कि मैं महावीर हनुमान का पुत्र हूं? अगर तुम अंदर घुसने की कोशिश करते हो, तो तुम्हें लोहे के चने चबाने पड़ेंगे। ” यह सुनकर हनुमान चकित रह गए।

हनुमानजी और मकरध्वज युद्ध

उसने कहा – “अरे! मेरा तो कोई पुत्र नहीं है। तुम कहाँ से टपके? ” मकरध्वज ने कहा – “जब आप जलती हुई लंका के बाद स्नान कर रहे थे, तभी एक मछली ने आपका पसीना पी लिया। मैं उनके गर्भ से पैदा हुआ हूं।”

हनुमान ने उनसे राम लक्ष्मण के बारे में पूछा। उसने कहा – ‘वह कुछ नहीं जानता। आज मेरे प्रभु किसी की बलि दे रहे हैं। लेकिन वहां किसी को जाने की इजाजत नहीं है। मैं आपको जाने भी नहीं दूँगा।”

दोनों के बिच युद्ध हुआ। अंत में हनुमान जी ने उसे अपनी पूंछ से बांध दिया और मंदिर में प्रवेश किया। उनके चरण स्पर्श होते ही देवी भूमि में धस गई और वे अपना मुंह खोलकर देवी के स्थान पर खड़े हो गए।

हनुमान अहिरावण युद्ध

राक्षसों का मानना ​​​​था कि देवी प्रसन्न और प्रकट हुई है। उन्होंने बहुत पूजा की। ‘देवी, जो कुछ भी फल, माला, अन्न, वस्त्र, जो कुछ भी आता है, वह अपने मुंह में रखती है। यज्ञ के समय राम और लक्ष्मण को ले आए। उस समय राक्षस उसका कई तरह से मजाक उड़ा रहे थे, उसे तरह-तरह से परेशान कर रहे थे। उन्होंने चुपचाप सब कुछ सहा।

अहिरावण ने कहा – “अब तुम अपने रक्षक को याद करो।” भगवान हंसे और बोले – “देखना, तुम्हारी देवी तुम्हें ना खा जाये।”अहिरावण ने उन पर तलवार चलाने ही वाला था के हनुमान दहाड़ते हुवे वहा पहुंचे। हनुमान अहिरावण युद्ध हुआ।

अहिरावण और राक्षसों का वध करने के बाद, हनुमान भगवान को शिविर में ले आए। चारों तरफ खुशी और जयकारे का शोर था। हनुमान अहिरावण युद्ध से चारों दिशाओं में हनुमान जी के जयकारे होने लगे।

यह भी पढ़े:

श्री राम अयोध्या लौट गए | हनुमान भरत संवाद

श्री राम अयोध्या लौट गए | हनुमान भरत संवाद

हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने गए

हनुमान गोवर्धन पर्वत कथा | Hanuman Govardhan Parvat

हनुमान लंका दहन से जुडी 10 बातें | लंका कांड