जानिए वेद क्या है? संपूर्ण जानकारी | 4 Vedas in Hindi

Share करें

वेद हिंदू धर्म के प्राचीनतम और पवित्र ग्रंथ माने जाते है। वेदों को समझना इतना आसान नहीं है, इसीलिए वेदों को कही विभागों में बाटा गया और बाद में इसे समाज के कल्याण के लिए लिखित किया गया। जिससे मानव जाती इसे आसानीसे समज सके। ऐसे में हमारे मन में कही सवाल उठते है, की तो फिर वेदों की उत्पत्ति कैसे हुई? वेद कितने है? वेद का अर्थ क्या है? वेदों को किसने लिखा? चारों वेदों में क्या लिखा है? और ऐसे और कही सवाल जिनका हम आपको संक्षिप्त में उत्तर देने जा रहे है, तो अंत तक पूरा ज़रूर पढ़े।

जानिए वेद क्या है? संपूर्ण जानकारी | 4 Vedas in Hindi
जानिए वेद क्या है? संपूर्ण जानकारी | 4 Vedas in Hindi

वेदों की उत्पत्ति कैसे हुई?

वेद हिंदुओं के ज्ञान का भंडार हैं। वेदो को मनुष्यो द्वारा नहीं लिखा गया, बल्कि अरबों साल पहले, ऋषियों ने गहरी तपस्या के बाद भगवान की आवाज सुनी, जिसे वे वेद कहते थे। ऋषियों ने अपने शिष्यों को वह ज्ञान दिया। इस तरह वेद पीढ़ी दर पीढ़ी अवतरित हुए और आज भी मनुष्य का मार्गदर्शन करते हैं।

चारों वेद कौन कौन से हैं?

वेद हमें एक आध्यात्मिक जीवन जीने के लिए कहते हैं, जो शांति, अहिंसा और दूसरों की मदद से भरा हो। वेदों को 4 प्रकारों में विभाजित किया गया है: ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद। वैदिक ज्ञान स्मृतियों, उपनिषदों और पुराणों में भी बताया हुआ है।

वेद का अर्थ क्या है?

वेद का अर्थ है ज्ञान। मनुष्य के रूप में हमें दो बातें जानने की आवश्यकता है।
1. ‘इहम’ – जब हम भौतिक शरीर में हों तो कैसे रहें। यह हमारे शरीर और दिमाग को मजबूत रखने, हमारे शांति और प्रेम के लिए, अच्छे बच्चे पैदा करके समाज को मजबूत करने, दूसरों के कल्याण के लिए काम करने आदि से संबंधित है।

2. ‘परम’ – भौतिक शरीर को छोड़कर कैसे जीना है। यह आध्यात्मिक विकास के लिए काम करने से संबंधित है, ताकि आत्मा को उच्च लोकों तक पहुंचने, देवताओं से सहायता प्राप्त करने, अन्य आत्माओं का भला करने आदि की शक्ति प्राप्त हो।

इन दोनों उद्देश्यों की पूर्ति वेदों में निहित ज्ञान से होती है। तो वेद ज्ञान के अवतार हैं।

वेदों के रचयिता कौन है?

वेदों की रचना मनुष्यों ने नहीं की है। वे ब्रह्म के द्वारा बनाए गए हैं। इसलिए वेदों की उत्पत्ति का पता नहीं लगाया जा सकता है। पिछले 10,000 वर्षों में, उन्हें मनुष्यो द्वारा सरल भाषा का उपयोग करके लिखा गया है।

वेदों को परमात्मा ने सूक्ष्म तरंगों के रूप में ऋषियों (द्रष्टाओं) को तब प्रकट किया, जब वे ज्ञान की खोज में गहन तपस्या में थे। इसलिए वेदों को ऋषियों ने सुना और इसलिए उन्हें ‘श्रुति’ कहा जाता है।

द्रष्टा इतने दयालु थे, कि वे मानव जाति के लाभ के लिए इस ज्ञान को साझा करना चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपने शिष्यों को वेदों को वाक्यों (ध्वनि) के रूप में पढ़ाना शुरू किया। शिष्यों ने अपने शिष्यों को पढ़ाना शुरू कर दिया।

इस प्रकार वेदों ने ध्वनि का रूप धारण कर लिया था और प्रयुक्त भाषा ‘गीरवाण’ थी जो की अब विद्यमान संस्कृत भाषा का प्राचीन रूप है। गीरवाण को ‘देवताओं की भाषा’ कहा जाता है। वेदों के भाषा रूप को ‘स्मृति’ (याद किया हुआ) कहा जाता है।

वेदों को किसने लिखा?

वेद अनंत हैं। वेदों के ज्ञान का न आदि है, और न अंत। यह समय-समय पर मानव जाति के मार्ग को रोशन करने वाली मशाल की तरह है। वेदों के संपूर्ण ज्ञान को संहिताबद्ध किया गया और ऋषि वेद व्यास द्वारा 4 प्रकारों में विभाजित किया गया था।  जिन्हें ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद कहा जाता है।

कुछ अज्ञानी विदेशियों के साथ-साथ कुछ भारतीय प्रचार करते हैं, कि वेद आर्यों द्वारा लिखे गए थे, एक अलग जाति के लोग जो उत्तर भारत में कहीं से उतरे और उस ज्ञान को भारत के शेष हिस्सों में फैलाया।

यह विचार पूरी तरह से निराधार था और इसका उद्देश्य यह फैलाना था, कि वेद भारतीयों की संपत्ति नहीं हैं। सच्चाई यह है, कि आर्य मूल रूप से भारतीय (हिंदू) थे, और वे सरस्वती नदी के तट पर मानव सभ्यता को स्थापित करने वाली पहली जाति थे, जो रामायण काल ​​के दौरान मौजूद थी।

वेदों में सरस्वती नदी का 50 से अधिक बार उल्लेख किया गया है, जबकि गंगा नदी का केवल एक बार उल्लेख किया गया है। आर्यों (हिंदुओं) ने विज्ञान, इंजीनियरिंग, धातु विज्ञान, गणित, खगोल विज्ञान, कृषि, वास्तुकला, चिकित्सा, राजनीति आदि के विकास का बीड़ा उठाया और उन्होंने अपने वैदिक ज्ञान से एक उत्कृष्ट सभ्यता का निर्माण किया। इसे बाद में ‘हिंदू (सिंधु) घाटी सभ्यता’ कहा गया।

चारों वेदों में क्या लिखा है?

1. ऋग्वेद:
‘रिक’ का अर्थ है स्तुति। ऋग्वेद में इंद्र, अग्नि, रुद्र और दो अश्विनी देवताओं, वरुण, मरुत, सवित्रु और सूर्य जैसे देवताओं की स्तुति है। ऋग्वेद में प्रकृति की ऊर्जाओं के दोहन को अत्यधिक महत्व दिया गया है। इसमें देवताओं की स्तुति करने वाले 1017 भजन (कविताएं) हैं। ये भजन विभिन्न मंत्रो से बने हैं। एक मंत्रो में 25 अक्षरों से लेकर 104 अक्षरों तक होते हैं जिन्हें एक बार में पढ़ा जाना होता है।

2. यजुर्वेद:
‘यजुश’ का अर्थ है कर्मकांड। यजुर्वेद में देवताओं को किए जाने वाले विभिन्न अनुष्ठान और बलिदान शामिल हैं। जब किसी मंत्र का जाप किया जाता है, और उसकी शक्ति का अनुभव किया जाता है, तो मंत्र को उपयोगी बनाने के लिए संबंधित देवता को एक निश्चित प्रकार की आहुति दी जाती थी। यजुर्वेद में अग्नि के माध्यम से देवताओं को दिए जाने वाले इन आहुति के बारे में बताया गया है।

यजुर्वेद को ‘कृष्ण (अंधेरा) यजुर्वेद’ और ‘शुक्ल (उज्ज्वल) यजुर्वेद’ में विभाजित किया गया है। शुक्ल यजुर्वेद में अनुष्ठानों में प्रयुक्त मंत्र शामिल हैं, जबकि स्पष्टीकरण एक अलग ‘ब्राह्मण’ द्वारा किया जाता है। कृष्ण यजुर्वेद इस तरह के स्पष्टीकरण को काम में ही शामिल करता है। कृष्ण यजुर्वेद के लिए 101 और शुक्ल यजुर्वेद के लिए 17 शाखाएं हैं।

3. साम वेद:
‘साम’ का अर्थ है गीत। सामवेद में गाए जाने वाले श्लोक हैं। इन छंदों को उनके मूल रूप में 7 स्वरों का उपयोग करके बनाया गया है: सा, रे, गा, मा, पा, ध, नि जो भारत में मौजूद शास्त्रीय संगीत का आधार हैं। ये नोट मानव शरीर में ऊर्जा केंद्रों (चक्रों) को जाग्रत करके आत्मा की मुक्ति में सहायता करते हैं।

सामवेद के अधिकांश श्लोक ऋग्वेद से लिए गए हैं। इसमें कई नए श्लोक जोड़े गए हैं। साथ ही कुछ श्लोकों को दोहराया गया है। इसमें कुल मिलाकर 1875 श्लोक हैं।  सामवेद के श्लोकों को गाया जाना चाहिए, न कि जपना चाहिए। इन श्लोकों के गायन को ‘सामगान’ कहते हैं।

4. अथर्ववेद:
अथर्ववेद में सांसारिक सुख प्राप्त करने के लिए उपयोगी कर्मकांड हैं। इसमें रोगों का वर्णन है, उन्हें कैसे ठीक किया जाए, पापों और उनके प्रभावों को कैसे दूर किया जाए, और धन प्राप्त करने के साधन के बारे में बताया गया है।

अथर्ववेद आधुनिक समाज पर अधिक लागू होता है, क्योंकि यह विज्ञान, चिकित्सा, गणित, इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी आदि जैसे विभिन्न विषयों से संबंधित है। अथर्ववेद में लगभग 6000 श्लोक हैं, जो 731 भजन बनाते हैं।

वेद कितने प्रकार के होते हैं? (वेदो के भाग)

1. मंत्र संहिता: वे विभिन्न देवताओं के लिए भजन, कविताएं और प्रार्थनाएं हैं।

2. ब्राह्मण: वे बताते हैं कि देवताओं को बलिदान और प्रसाद कैसे देना है।

3. आरण्यक: वे कर्मकांडों की दार्शनिक व्याख्या करते हैं।

4. उपनिषद: उन्हें सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि उनमें सभी वेदों के संपूर्ण ज्ञान का सार समाहित है। सबसे महत्वपूर्ण उपनिषद हैं: इसोपनिषत, केनोपनिषत, कथोपनिषत, प्रस्नोपनिषत, मुंडकोपनिषत, मांडुक्योपनिषत, ऐतरेयोपनिषत, तैत्तिर्योपनिषत, छांदोग्योपनिषत, बृहदारण्यकोपनिषत और श्वेताश्वतरोपनिषत।

उपवेद कितने हैं?

उपवेद 4 है।
1. आयुर्वेद: आयुर्वेद रोगों के लिए हर्बल उपचार से संबंधित है।
2. धनुर्वेद: धनुर्वेद में शत्रु से बचाव और युद्ध करने का तरीका बताया गया है।
3. गंधर्ववेद: गंधर्ववेद संगीत से संबंधित है।
4. अर्थ शास्त्र: अर्थ शास्त्र राजनीति और अर्थशास्त्र से संबंधित है।

6 वेदांग कौन कौन से हैं? वेदांग (वेदों के अंग)

1. व्याकरण: व्याकरण संस्कृत भाषा के व्याकरण से संबंधित है।
2. ज्योतिष: ज्योतिष और खगोल विज्ञान से संबंधित है।
3. निरुक्त: निरुक्त वैदिक मंत्रों में निहित शब्दों की उत्पति से संबंधित है।
4. शिक्षा: शिक्षा ध्वन्यात्मकता और वैदिक मंत्रों के उच्चारण से संबंधित है।
5. छंद: वैदिक मंत्रों के छंद से संबंधित है।
6. कल्प: कल्प सूत्र बलिदान की विधियों और पालन की जाने वाली आचार संहिता से संबंधित हैं।

स्मृतिया

‘स्मृति’ में दूसरों को नुकसान पहुंचाए बिना जीवन जीने का ज्ञान मिलता है। मानव जीवन के 4 चरणों में किए जाने वाले कर्तव्य, अर्थात, स्मृतियों में बाल्यावस्था, युवावस्था, अधेड़ और वृद्धावस्था का स्पष्ट उल्लेख मिलता है। स्मृतियों में समाज में अनुशासन लागू करने और कानूनों का पालन न करने पर दंड की चर्चा की गई है। मनु स्मृति, याज्ञवल्क्य स्मृति, और परासरा स्मृति अन्यों में सबसे महत्वपूर्ण स्मृतियाँ हैं।

1. ऋषि वाल्मीकि द्वारा लिखित रामायण और

2. ऋषि व्यास द्वारा लिखित महाभारत इसी श्रेणी में आता है।

 इन्हें इतिहास की पुस्तकें कहा जाता है।

पुराण

पुराण यह पुराना होने के बावजूद आधुनिक है। इसका अर्थ भले ही पुराने प्रतीत होता हों, लेकिन उनमें बहुमूल्य ज्ञान मिलता है, जो वर्तमान आधुनिक समाज पर समान रूप से लागू होता है। इतिहास और पुराणों में वेदों का एक ही ज्ञान है, लेकिन एक सरलीकृत कहानी के रूप में एक साधारण मनुष्य भी उन्हें आसानी से समझ सकता है और उनका अनुसरण कर सकता है। अन्य 18 उप पुराणों के साथ 18 मुख्य पुराण हैं। मुख्य पुराणों की सूची निम्नलिखित है:

18 पुराण कौन कौन से हैं?

1. विष्णु पुराण, 2. नारद पुराण, 3.श्रीमद्भागवत पुराण, 4.गरुड़ पुराण, 5.पद्म पुराण, 6.वराह पुराण, 7.ब्रह्म पुराण, 8. ब्रह्माण्ड पुराण, 9.ब्रह्म वैवर्त पुराण, 10. मार्कंडेय पुराण, 11. भविष्य पुराण, 12. वामन पुराण, 13. मत्स्य पुराण, 14. कूर्म पुराण, 15. लिंग पुराण, 16. शिव पुराण, 17. स्कंद पुराण और 18 अग्नि पुराण।

आगम

यह मंत्र, तंत्र और यंत्र पूजा के व्यावहारिक तरीकों के लिए हैं। वे वर्णन करते हैं, कि मंदिरों, मूर्तियों, आकर्षण और मंत्रों, रहस्यवादी आरेखों, सामाजिक नियमों और सार्वजनिक त्योहारों का निर्माण कैसे किया जाता है।

आगम क्या है?

आगम वेद के सम्पूरक है। आगम तीन प्रकार के होते हैं:
1. वैष्णव आगम: मुख्य देवता के रूप में भगवान विष्णु की भक्ति करते हैं।
2. शैव आगम: जो भगवान शिव को मुख्य देवता मानते हैं।
3. शाक्त आगम: देवी माँ को ब्रह्मांड की माता मानते हैं।

दर्शन

इतिहास, पुराण और आगम जनसाधारण के लिए हैं, दर्शन बुद्धिजीवियों के लिए हैं। ऋषियों ने दर्शनों में अपने विचारों को संक्षिप्त छंदों (सूत्रों) के रूप में संघनित किया है। अतः भाष्यों की सहायता के बिना उन्हें समझना बहुत कठिन है। यही कारण है, कि बाद के ऋषियों द्वारा विभिन्न भाष्य उपलब्ध कराए गए हैं।

दर्शन कितने हैं?

‘षड्दर्शन’ कहे जाने वाले 6 दर्शन हैं: सांख्य, योग, न्याय, वैशेषिक, मीमांसा और वेदांत
1. न्याय: न्याय की स्थापना ऋषि गौतम ने की थी,
2. वैशेषिक: वैशेषिक ऋषि कणाद द्वारा,
3. सांख्य: ऋषि कपिला मुनि द्वारा सांख्य,
4. योग: पतंजलि महर्षि द्वारा योग,
5. मीमांसा: जैमिनी द्वारा पूर्व मीमांसा, और
6. वेदांत: ऋषि व्यास द्वारा उत्तर मीमांसा या वेदांत।

यह भी पढ़े:

Puran Kitne Hai – जानिए सभी पुराणों का सक्षिप्त वर्णन

जानिए गरुड़ पुराण क्यों पढ़ना चाहिए ? | Garud Puran

जानिए विष्णु पुराण में क्या लिखा है? Vishnu Puran in Hindi

जानिए पद्म पुराण क्या है ? Padma Purana in Hindi

शिव पुराण का पाठ कैसे करें – Shiv Puran in Hindi