श्री राम काज करिबे को आतुर

Share करें
श्री राम काज करिबे को आतुर
श्री राम काज करिबे को आतुर

श्री राम काज करिबे को आतुर

श्री राम काज करिबे को आतुर हनुमानजी लगातार राम के काम में लगे हुए थे। अब भी वह राम काज में ही लीन रहते है। लेकिन यह युद्ध का समय है।

दिन भर, कभी प्रभु के समीप रहना, तो कभी उनसे दूर रहकर युद्ध करना और रात में प्रभु के चरणों में सेवा करना। उनसे धर्म, प्रेम, ज्ञान की बातो को सुनना। न केवल कभी-कभार, बल्कि अधिकांश समय भगवान उनके शरीर पर हाथ फेरते और उनकी सारी थकान दूर हो जाती।

जब भगवान राम सो रहे होते , तो वह अपनी लंबी पूंछ के साथ एक किला बनाते थे, और दरवाजे पर बैठके  रात भर पेहरा देते थे, और सुबह होने तक फिर से लड़ते थे! कोई कठिन काम होता तो जाम्बवान, सुग्रीव, अंगद सभी हनुमान की शरण में जाते।

रावण से युद्ध करते समय हनुमान ने उसे ऐसा प्रहार किया कि वह मूर्छित हो गया। होश में आकर उन्होंने हनुमान की प्रशंसा की और स्वीकार किया कि वह अपने जीवन में ऐसे नायक से कभी नहीं मिले थे।

कहा जाता है कि रावण के आक्रमण से लक्ष्मण दंग रह गए। अपने पुत्र मेघनाद की तरह रावण चाहता था कि मैं उसे उठा लूं। उन्होंने अपनी पूरी ताकत लगा दी लेकिन लक्ष्मण नहीं उठे। यह देख हनुमान दौड़ पड़े। रावण के बाणों से पूरा शरीर छिद गया था, वे लक्ष्मण के पास पहुँचे

और रावण को मुष्टिका दे मारा। वे लक्ष्मण को फूल की तरह उठाकर राम के पास ले आए। राम ने हनुमान को गले से लगा लिया। राम ने लक्ष्मण से कहा – “भाई लक्ष्मण! आपने केवल देवताओं की रक्षा के लिए अवतार लिया है।यह बेहोशी कैसी?” राम की बात सुनते ही लक्ष्मण बैठ गए और दुगने उत्साह के साथ फिर से युद्ध के मैदान में चले गए। हनुमान के साहसिक कार्य ने एक पल में इतना बड़ा संकट टाल दिया।

इसीलिए तो हनुमान चालीसा में वर्णन मिलता है की ”विद्यावान गुणी अति चातुर ,राम काज करिबे को आतुर”।

शव को लेजाते समय राम नाम सत्य है क्यों बोला जाता है?


राम काज करिबे को आतुर का अर्थ

राम काज करिबे को आतुर का अर्थ यह है की आप यानि
” हनुमानजी राम का कार्य करने के लिए सदैव तत्पर रहते है ”

यह भी पढ़े:

राम ने हनुमान को मृत्युदंड क्यों दिया?

श्री राम अयोध्या लौट गए | हनुमान भरत संवाद

श्री राम अयोध्या लौट गए | हनुमान भरत संवाद

हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने गए

हनुमान गोवर्धन पर्वत कथा | Hanuman Govardhan Parvat