रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

Share करें
रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा
रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग चार धामों मे से एक धाम भी है। इसलिए इसका महत्व और अधिक बताया गया है। तो आज हम शिव पुराण में वर्णित रामेश्वर की कथा का वर्णन करते है।

पृथ्वी के बोझ को हल्का करने के लिए, ऋषियों और देवो को राक्षसों की अत्याचारों से मुक्त करने के लिए। अन्य राक्षसों के साथ राक्षस राज रावण को नष्ट करने के लिए, भगवान राम ने अयोध्या में कौशल्याजी के पुत्र के रूप में दशरथ महाराज के वहा अवतार लिया।

जब श्री राम अपने पिता के वचन के लिए वन में आए, तो उन्होंने पंचवटी में निवास किया। उस समय राक्षस राज रावण उनकी पत्नी सीता का हरण करके लंका ले गया।

तब राम लक्ष्मण सीता की खोज के लिए निकले। किष्किंधा नगर आये। हनुमानजी के कहने पर सुग्रीव से मित्रता की और सुग्रीव की वाली के अत्याचारों से रक्षा की।

हनुमानजी और सुग्रीव की सहायता से सीता की खोज की गई। राम ने लंका पे चढाई की, समुद्र तट पे शिवजी का पार्थिवलिंग बनाकर तीन दिन तक शिवपूजन किया फिर समुद्र में सेतु बांधकर लंका के रावण को हराकर उसका नाश किया और सीता जी को वापस ले आये।

इस प्रकार श्रीराम ने समुद्र तट पर शिवजी के पार्थिवलिंग की स्थापना की पूजा की और शिवजी से यहां सदा के लिए लिंग रूप से बसने की प्राथना की।

श्री राम की प्रार्थना से शिव प्रसन्न हुए और वहां लिंग के रूप में बस गए। तब से यह शिवलिंग रामेश्वर के नाम से विश्व में प्रसिद्ध हुआ, भगवान शिव के इस लिंग की पूजा, यज्ञ, और जो कोई भोग लगता है, तो उसके सभी मनोरथ परिपूर्ण होते है, सिद्ध होते हैं। और अंत में मोक्षगति को प्राप्त होते हैं। श्री रामेश्वर ज्योतिर्लिंग की तीर्थयात्रा तीर्थयात्रियों के लिए फलदायी होती है।


यह भी पढ़े:

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – Kedarnath Jyotirling

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग कथा – शिव पुराण

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

वैजनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – शिव पुराण