महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा – Mahakal Jyotirling Story

Share करें
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा – Mahakal Jyotirling Story

महाकाल ज्योतिर्लिंग की उत्पत्ति कैसे हुई?

पूर्व काल में एक विद्वान् ब्राह्मण वेदों का ज्ञाता था। वह उज्जपिजा नगर में रहता था। वह शिव का भक्त था। वह शिव की पूजा में लगा रहता।

इस ब्राह्मण के चार पुत्र थे। उनके नाम इस प्रकार थे। देवप्रिय, प्रियमेघा, सुकृत , सुव्रत, इस समय रतिमाल पर्वत के ऊपर एक महादुष्ट , बलवान दूषण नाम का राक्षस रहता था।

उसने ब्रह्माजी की तपस्या से वरदान प्राप्त किया था, और इस वरदान से वह अहंकारी हो गया था। उसने देवताओं को जीत लिया और उनका राज्य छीन लिया।

इसके अलावा उन्होंने वेद धर्म और स्मृति धर्म को नष्ट कर दिया। इस दूषण नाम का राक्षस, उसके जैसे बलवान चार राक्षस के साथ मिलकर ब्राहणो का नाश करने लगा।

जब इस राक्षस की पीड़ा से ब्राह्मण बहुत दुखी हुए, तो वेदप्रिय ने सभी से कहा – “देखो, हमारे पास सेना नहीं है, कि हम इस राक्षस का सामना कर सकें, इसलिए हम सभी शिवजी की शरण में जाते हैं, और उनकी पूजा करते हैं, और उन्हें प्रसन्न करते हैं।

शिवजी हम पर प्रसन्न होकर हमारा दुख हर लेंगे। इस प्रकार सभी ब्राह्मण शिवजी के पार्थिवलिंग की पूजा में लीन हो गए।

इस राक्षस असुर को इस तथ्य के बारे में पता चला और उसने अपने साथी असुर को इन ब्राह्मणों को नष्ट करने का आदेश दिया।

तब उस पार्थिवलिंग के स्थल पे बड़ा धमाका हुआ और वहां गढ्ढा हो गया। इस गड्ढे से भगवान शिव महाकाल के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने बहुत जोर से दहाड़ लगाई।

इस गर्जना के साथ, राक्षस को जलाकर भस्म कर दिया गया और फिर वे दुष्ट सेना को नष्ट करने लगे। दुष्ट सेना का नाश करने के बाद भोलेनाथ ने ब्राह्मणो पे कृपा करके वरदान मागने को कहा, ब्राह्मण कहने लगे , भगवान! हमें मुक्ति दो और जनहित के लिए आप यहीं बस जाओ।

ब्राह्मणों की बातें सुनकर भगवान शिव गहरे गड्ढे में बैठ गए और शिवलिंग के चार किनारे प्रकट हुए और भगवान भोलेनाथ महाकालेश्वर के नाम से प्रसिद्ध हुए।

इस महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग को भक्ति भाव और श्रद्धा से प्रणाम करने वाले शिव भक्त के सभी मानसिक कार्य फलदायी होते हैं।

यह भी पढ़े:

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग कथा | Somnath Jyotirling Story

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की कथा – Mallikarjun Jyotirling in Hindi

ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा – Omkareshwar Jyotirlinga

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा – Kedarnath Jyotirling

शिव पुराण अनुसार भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की कथा