भगवान शिव का वर्णन – Lord Shiva

भगवान शिव का वर्णन
भगवान शिव का वर्णन

भगवान शिव का वर्णन

शिव:

शिव त्रिदेवता में तीसरे शिव हैं, भगवान शिव का वर्णन शिव पुराण में जिसे महेश्वर(महान ईश्वर), महादेव (देवो के देव), शंभु, हरिहर (विष्णु के साथ संघ में), पिनाकधारी(हाथ में त्रिशूल) , मृत्युंजय (मृत्यु के विजेता) के रूप में भी जाना जाता है। वह महाकाल और भैरव के रूप में भी प्रतिनिधित्व करते हैं, रुद्र के रूप में जाने जाते है। शिव राक्षसों , भूत (प्रेत) और पिसाच (मांस खाने वालों) सहित पाताल लोक के सभी प्राणि भी उनकी पूजा करते है। वह संगीत और नृत्य (नटराज) के प्रवर्तक हैं, शिव तांडव नामक नृत्य का प्रतीकवाद है, व्याकरण के निर्माता, योग के आविष्कारक और एक आदर्श गृहस्थ के साथ-साथ तपस्वी भी है। 

शिव को अक्सर बाघ की त्वचा पर साधु के रूप में बैठे दिखाया जाता है। उनके बालों पर एक वर्धमान चंद्रमा (चंद्रशेखर) है, जिसमें से गंगा नदी की धाराएं बहती हैं, कभी-कभी शिव को उनके माथे के केंद्र में तीसरी आंख से दिखाया जाता है।

देवताओं द्वारा सागर मंथन के समय विष (हलाहल) पी लेने के कारण गले को नीला दर्शाया गया है। इसीलिए उसे निलकंठ भी कहा जाता है।

उनकी गर्दन के चारों ओर कुंडलिनी, जीवन के भीतर आध्यात्मिक ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करने वाला एक कुण्डलिनी साप बिराजमान है।

वह खोपड़ी की माला पहनते है, और उन्हें श्मशान भूमि के भगवान के रूप में भी जाना जाता है। वह पवित्र रुद्राक्ष के मोतियों को भी धारण किये हुवे है।

उनके पुरे शरीर पर भस्म लगी हुवी है, उन्हें डमरू के साथ त्रिशूल पकड़े दिखाया गया है। उनका वाहन एक सफेद बैल (नंदी- शक्ति और पौरुष का प्रतीक है) है, और अपने सैनिकों के प्रमुख गण भी हैं।

शिव की पत्नी परवती है, शक्ति की देवी (जो हिंसक रूप में देवी दुर्गा और कपाली के रूप में दर्शाई गई हैं और साधारण रूपों में उमा और पार्वती के रूप में दर्शाई गई हैं)।

शिव और पारवती अर्धनारेश्वर के रूप में भी जाने जाते है।  (आधा पुरुष और आधी महिला), शिवलिंग के रूप में भी शिव की आराधना की जाती है।

लिंग शब्द का अर्थ है एक प्रतीक या अभिव्यक्ति जो एक हस्तक्षेप की ओर इशारा करता है ,और निर्गुण ब्रह्म के साथ-साथ सगुन ब्रह्म दोनों का प्रतिनिधित्व करता है, जो निराकार के साथ-साथ रूप के साथ भी है।

उनके पुत्र गणेश और कार्तिकेय हैं।

गणेश जी का सिर एक हाथी का है, उनका वाहन चूहा है। वह सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक है और बाधाओं के दूर करता विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। किसी भी अनुष्ठान की शुरुआत में उनकी पूजा की जाती है, ताकि काम बिना किसी बाधा के पूरा हो सके।

कार्तिकेय युद्ध के देवता हैं और देवताओं की सेना के सेनापति हैं। वह आमतौर पर छह सिर होने के रूप में चित्रित किया गया है।

उनके एक हाथ में शक्ति नामक भाला है और दूसरे हाथ से वह हमेशा भक्तों को आशीर्वाद देते है। उनका वाहन मोर है। शिव के आगमन के साथ ही कार्तिकेय ने उत्तर भारत में अपना महत्व खोना शुरू कर दिया था लेकिन दक्षिण में आज भी लोकप्रिय है, जहां उन्हें भगवान मुरुगन के रूप में पूजा जाता है ।

गणेश जी सभी बाधाओं को दूर करते हैं। और कार्तिकेय सभी आध्यात्मिक शक्तियों को प्रदान करता है।

Lord Shiva and Ravana – रावण की शिव भक्ति के 2 अनोखे किस्से, जानिए कहाँ हुई रावण से ग़लती

नंदी कौन थे? नंदी लघु परिचय – Nandi Cow

महाशिवरात्रि व्रत कथा || Mahashivratri Vrat Katha || Mahashivratri ki Kahani

Share

Similar Posts