Ganga Dussehra 2021: गंगा दशहरा 2021 की तिथि और पूजा विधि

Share करें
गंगा दशहरा 2021
गंगा दशहरा 2021

Ganga Dussehra 2021: गंगा दशहरा 2021 की तिथि और पूजा विधि

आज हम बात करेंगे गंगा दशहरा 2021 में कब मनाया जाएगा और इसकी पूजा का शुभ मुहूर्त क्या रहेगा? इसके अलावा हम बात करेंगे कि गंगा दशहरा के दिन स्नान दान करने का क्या महत्व है और इसकी संपूर्ण पूजा विधि क्या है? तो आइए शुरू करते हैं।

गंगा दशहरा कब मनाया जाता है?

गंगा दशहरा का त्योहार हर साल जेष्ठ मास की दशमी तिथि को मनाया जाता है।

गंगा दशहरा का क्या महत्व है?

इससे जुडी पुराण कथा के अनुसार यह दिन भगीरथ ने कठोर तपस्या करके माँ गंगा को धरती पर लाया गया था। इसके बाद से ही माँ गंगा की पूजा का महत्व आरम्भ हुआ।

मान्यता है की यह दिन अगर कोई व्यक्ति माँ गंगा की पूजा या स्नान करता है ,वह व्यक्ति सभी १० प्रकार के पापो से मुक्त हो जाता है। इस दिन को गंगा नदी में उतरकर पूजा का विशेष महत्व बताया गया है की इससे समस्त कष्टों का निवारण भी हो जाता है।

गंगा दशहरा पूजा विधि

गंगा दशहरा 2021 की पूजा विधि के बारे में। दोस्तों इस दिन गंगा स्नान का अलग ही महत्व बताया गया है। गंगा पूजन करने वालों को गंगा नदी में जाकर स्नान करना चाहिए।

आपको बता दें कि जब आप गंगा नदी में स्नान करें तब 10 बार डुबकी लगानी चाहिए। गंगा दशहरा के दिन अगर कोई भी व्यक्ति गंगा की पवित्र नदी में स्नान ना कर सकें तो वह पास के किसी भी नदी, तालाब या जलाशय में माँ गंगा जी का ध्यान करते हुए स्नान कर सकता है।

या फिर घर पर ही अपने नहाने वाले पानी में गंगाजल मिलाकर माँ गंगा का ध्यान करते हुए स्नान कर सकता है।

इसके बाद गंगा माता की मूर्ति या जो व्यक्ति गंगा तट पर गए हैं, उन्हें गंगा नदी में उतरकर माँ गंगा की विधिवत पूजा अर्चना करनी चाहिए।

एक बात का खास ध्यान रखें कि गंगा दशहरा में 10 की संख्या का काफी महत्व होता है। ऐसे में पूजा में आप जीस भी चीज़ का इस्तेमाल करेंगे।

उनकी संख्या 10 जरूर होनी चाहिए जैसे 10 दीपक, 10 प्रकार के फूल, 10 प्रकार के नैवेद्य, 10 पान के पत्ते, या 10 प्रकार के फल आदि का इस्तेमाल करें।

गंगा दशहरा के दिन क्या करना चाहिए?

आप श्रद्धा के अनुसार गरीब या ब्राह्मण को दान भी जरूर दें। ध्यान रखें गंगा दशहरा के दिन जिन भी वस्तु का दान करें, उनकी संख्या भी 10 होनी चाहिए।

इस दिन गंगा नदी में खड़े होकर। जो व्यक्ति गंगा स्रोत पड़ता है, वह अपने सभी पापों से मुक्ति पा जाता है। इसके अलावा आपको बता दें कि इस दिन 10 सेर तिल 10 सेर जौ, 10 सेर गेहूं, 10 ब्राह्मणों को दान देने से सभी प्रकार के पाप नष्ट हो जाते हैं, और आपको दुर्लभ संपत्ति की प्राप्ति भी होती है।

गंगा दशमी कितनी तारीख को है?

चलिए अब बात करते हैं कि गंगा दशहरा साल 2021 में कब मनाया जाएगा तो आपको बता दें कि गंगा दशहरा 2021, 20 जून, दिन रविवार को मनाया जाएगा और दशमी तिथि की शुरुआत 19 जून 2021 की शाम को 6:45 पर हो जाएगी और दशमी तिथि की समाप्ति 20 जून 2021 की शाम को 4:21 पर होगी।